19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
धूप खाकर जिंदा है वो
09-06-2013

वाशिंगटन। अमेरिका में रहने वाली एक महिला ने पिछले पांच हफ्तों से कुछ नहीं खाया है। सिर्फ पानी व सूर्य के प्रकाश के सहारे वह जिंदा है। वाशिंगटन के सीटले की रहने वाली 65 वर्षीय नवेना शाइन नाम की यह महिला ब्रिदेरिएनिस्म नाम की अवधारणा के तहत पिछले तीन मई से भोजन त्याग दिया है। इस अवधारणा के तहत जीवन के लिए खाद्यान्न जरूरी नहीं है तथा शरीर के संचालन हेतु आवश्यक पोषक पदार्थ सूर्य के प्रकाश से ही मिल सकते हैं। अपने इस प्रयोग का अनुभव उन्होंने फेसबुक एवं यू ट्यूब के जरिए साझा किया है। अपनी हालिया प्रेषित वीडियो एंट्री में उन्होंने बताया कि वह बहुत च्च्छा महसूस कर रही हैं तथा उन्हें भूख की चुभन यदा-कदा ही महसूस होती है। लेकिन इस प्रक्रिया में सबकुछ ठीकठाक नहीं चल रहा है। इसके कुछ पीड़ादायी साईड इफेक्ट्स के तहत उन्हें अपने गले के पीछे पित्त की अनुभूति, कमजोरी, मितली एवं कब्जियत की समस्या का सामना करना पड़ रहा है। मूलत: ब्रिटेन की रहने वाली इस सेवानिवृत्त कर्मचारी का कहना है कि खाना न खाने की वजह से उनका सामाजिक जीवन भी प्रभावित हुआ है। शाइने की योजना इसी तरह के नियंत्रित वातावरण में चार से छह माह तक रहने की है। अपने से छोटे से घर में उन्होंने आठ कैमरे लगा रखे हैं जो संपूर्ण प्रक्त्रिया पर नजर रखे हुए हैं। ये कैमरे ऐसे स्थानों पर भी लगे हुए हैं ताकि वे चोरी-छिपे भी कोई चीज खा न सकें। दिन में जब अधिकांश लोग अपने भोजन की तैयारियों में समय व्यतीत कर रहे होते हैं उस समय वे उसी चारदीवारी में कैद होकर मूवी देखकर, कसरत एवं सो कर अपना समय व्यतीत करती हैं। आखिरी बार उन्होंने ठोस खाद्यान्न तीस अप्रैल को लिया था। इसके बाद तीन दिनों तक उन्होंने फलो के रस का सेवन कर अपने आपको लंबे उपवास के लिए तैयार किया। वे स्वीकार करतीं हैं कि वक्त गुजरने के साथ उनके ऊर्जा का स्तर कम होता जा रहा है। अभी तक उनका वजन 159 पाउंड से घटकर 130 पाउंड पर आ चुका है तथा उनके पेट का उभार भी छह इंच कम हो गया है।