17 February 2019



प्रादेशिक
महिला कांग्रेस कार्यकर्ताओं को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा
10-06-2013
जिला अस्पताल के मेटरनिटी वार्ड से शनिवार को चोरी हुए नवजात की बरामदगी को लेकर रविवार को प्रदर्शन कर रहे महिला कांग्रेस कार्यकर्ताओं और अन्य को पुलिस ने दौ़़डा-दौ़़डा कर पीटा। प्रदर्शनकारियों ने जिला अस्पताल पर पथराव कर सिविल सर्जन के घर का घेराव कर दिया। पुलिस की पिटाई से चार महिलाओं समेत 11 लोग घायल हो गए। मौके पर नवजात के पिता बेहोश हो गए। पुलिस ने 4 महिलाओं समेत 11 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। बाद में निजी मुचलके पर छो़़ड दिया गया। शनिवार को जिला अस्तपाल में मुख्तियार खां की पत्नी शकीला ने एक बच्चे को जन्म दिया था। डिलीवरी के कुछ देर बाद ही बच्चे को एक महिला चुरा ले गई। रविवार को जिला महिला कांग्रेस की अध्यक्ष सरोज जोशी और जिला पंचायत सदस्य रंजनी श्रीवास्तव के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सुबह 10.30 बजे जिला अस्पताल के सामने चक्काजाम करने की कोशिश की। मौके पर पुलिस ने सभी को हटा दिया। इसके बाद महिला कांग्रेस कार्यकर्ता और अन्य लोग जिला अस्पताल परिसर में धरना-प्रदर्शन करने लगे। इसी दौरान कुछ कार्यकर्ताओं ने अस्पताल को निशाना बनाकर पथराव शुरू कर दिया। सुश्री जोशी के नेतृत्व में दो दर्जन से अधिक महिलाएं और पी़ि़डत परिजन हाउसिंग कॉलोनी स्थित सिविल सर्जन के निजी निवास पर प्रदर्शन करने पहुंच गई। नारेबाजी और तो़़डफो़़ड शुरू होते ही पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर लाठियां बरसाईं। शिशु के पिता बेहोश महिला कांग्रेस के प्रदर्शन के दौरान नवजात शिशु के गम में पिता मुख्ति्यार खां अस्पताल परिसर में ही बेहोश होकर गिर प़़डे। मां शकीला और दादी शहीदन की भी हालत भी बिगड़ गई। अपहरण का मामला दर्ज शनिवार को जिला अस्पताल के मेटरनिटी वार्ड में नवजात शिशु चोरी हो जाने के बाद सिटी कोतवाली पुलिस ने अज्ञात महिला के खिलाफ भादवि की धारा 363 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। परिजन को भी पीटा सरोज जोशी, जिला अध्यक्ष महिला कांग्रेस ने बताया कि मैं शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन कर रही थी तभी पुलिस ने लाठियां बरसानी शुरू कर दी। शिशु के परिजन को भी पीटा गया है। पुलिस इतनी ताकत यदि बच्चों को ढूंढने में लगाए तो बच्चे का पता चल सकता था। मामला दर्ज आरएस तोमर, टीआई सिटी कोतवाली, ¨भड ने कहा कि बच्चा चोरी करने के मामले में पुलिस ने अज्ञात महिला के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस विवेचना कर रही है। कानून हाथ में लेने की इजाजत किसी को नहीं दी जाएगी।