19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
पाकिस्तान में भारतीय फिल्मों के प्रदर्शन पर लगेगा नया कर
13-06-2013
इस्लामाबाद। पाकिस्तान सरकार ने विदेश निर्मित फिल्मों और सीरियलों पर नया कर लगाने का प्रस्ताव किया है। इससे यहां पर भारत में निर्मित फिल्मों और सीरियल के प्रदर्शन पर असर पड़ सकता है। साथ ही देशभर के सिनेमाघरों में फिल्मों के टिकट महंगे हो सकते हैं। वित्त वर्ष 2013-14 के लिए संसद में बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री इशाक दार ने विदेश में निर्मित फिल्मों पर दस लाख रुपये जबकि विदेशी सीरियलों पर प्रति एपिसोड एक लाख रुपये कर लगाने का प्रस्ताव किया है। उन्होंने कहा कि विदेशी फिल्मों और सीरियलों पर प्रस्तावित यह नया कर स्थानीय फिल्म उद्योग के साथ उन्हें प्रतिस्पर्धी बनाने के लिए लगाया गया है। पाकिस्तान में हर साल दर्जनों बॉलीवुड और हॉलीवुड फिल्मों का प्रदर्शन किया जाता है। 1965 में भारत-पाक युद्ध के बाद यहां पर भारतीय फिल्मों के प्रदर्शन पर रोक लगा दी गई थी, लेकिन सैन्य शासक परवेज मुशर्रफ के कार्यकाल के दौरान इसमें थोड़ी ढील दी गई। बाद में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी सरकार के शासनकाल में इसमें और छूट प्रदान की गई। पाकिस्तान में बॉलीवुड फिल्में खासी लोकप्रिय हैं। कराची और रावलपिंडी में कई मल्टीप्लेक्स सिर्फ बॉलीवुड फिल्मों का ही प्रदर्शन करते हैं। पाकिस्तान में भारतीय धारावाहिकों के अलावा उर्दू में डब तुर्की सीरियल भी काफी लोकप्रिय हैं।