16 February 2019



राष्ट्रीय
जयराम ने मोदी को भस्मासुर बताया
13-06-2013

नई दिल्ली। भाजपा में चल रही उठापटक पर चुटकी लेते हुए केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश ने गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को भस्मासुर बताया है। उन्होंने कहा कि मोदी अपने गुरु लालकृष्ण आडवाणी को ही निगल गए। जयराम ने 2014 आम चुनाव में दो संभावित प्रधानमंत्री प्रत्याशियों राहुल गांधी और नरेंद्र मोदी की तुलना करते हुए कहा कि जहां कांग्रेस उपाध्यक्ष देश में एक प्रणाली व ढांचा तैयार करने का प्रयास कर रहे हैं, वहीं मोदी खुद को ढांचा व प्रणाली बताते हैं। जयराम ने कहा कि मोदी उन लोगों को ही निगल गए जिन्होंने उन्हें यहां तक पहुंचाया है। मोदी ने अपने गुरु आडवाणी और प्रवीण तोगड़िया का राजनीतिक जीवन खतरे में डाल दिया है। मोदी और राहुल की तुलना करते हुए जयराम ने कहा, \'राहुल एक ऐसी व्यवस्था बनाने की कोशिशों में हैं, जो किसी एक व्यक्ति पर निर्भर न हो, जबकि मोदी का कहना है कि मैं सिस्टम की परवाह नहीं करता। मैं खुद ढांचा व प्रणाली हूं।\' उन्होंने अगला लोकसभा चुनाव राहुल गांधी बनाम नरेंद्र मोदी होने की बात पर टिप्पणी करने से इन्कार कर दिया, लेकिन कहा कि अगला चुनाव कांग्रेस और आरएसएस के बीच होगा। संघ और मोहन भागवत पर हमला करते हुए कहा कि अब आरएसएस को बतौर राजनीतिक दल पंजीकरण करा लेना चाहिए। जिस तरह से आरएसएस मोदी का समर्थन कर रहा है और आडवाणी के खिलाफ नजर आ रहा है और जिस तरह से मोहन भागवत पूरे देश में घूमकर विभिन्न लोगों के साथ लामबंदी कर रहे हैं, उससे स्पष्ट है कि संघ सामाजिक-सांस्कृतिक संगठन तो कतई नहीं है। मोदी को कांग्रेस के लिए बतौर चुनौती स्वीकारते हुए जयराम ने कहा, \'उन्होंने गुजरात में तीन चुनाव जीते हैं। निसंदेह वह अच्छा चुनाव प्रचार करते हैं। मोदी सिर्फ प्रबंधन के मामले में ही नहीं, बल्कि वैचारिक स्तर पर भी कांग्रेस के लिए चुनौती हैं।\' पार्टी में मोदी के लगातार बढ़ते कद पर उन्होंने कहा कि अगर भाजपा खुदकुशी करना चाहती हैं, तो हम उसे क्यों रोकें? मोदी को उद्यमियों के समर्थन पर उन्होंने कहा कि उद्योगपति तो जर्मन तानाशाह एडॉल्फ हिटलर और इटली के फांसीवादी बेनिटो मुसोलिनी का भी समर्थन करते थे।