17 February 2019



प्रादेशिक
देखते-देखते ढह गई 500 कमरों की धर्मशाला
18-06-2013

इंदौर। बद्रीनाथ के दर्शन के लिए पहुंचे जैन समाज का 36 सदस्यीय जत्था पिछले चार दिनों से फंसा हुआ है। जत्थे में शामिल लोगों ने बताया कि बाढ़ से यहां के हालत बहुत बिगड़ गए हैं। देखते ही देखते ही 500 कमरों की धर्मशाला ढह गई। पुल-पुलिये टूट गए हैं। सब तरफ पानी भरा हुआ है, जो लोग मंदिर के समीप ऊपर पहुंच गए हैं उनकी हालत और भी खराब है।  क्लॉथ मार्केट एसोसिएशन के अध्यक्ष हंसराज जैन ने बताया कि मंदिर के पास बादल फटने की सूचना है जिससे मंदिर को बहुत नुकसान पहुंचने की बात कही जा रही है। यहां लोगों को होटलों और धर्मशालाओं में रकने के लिए जगह नहीं मिल रही है। 70 से अधिक गा़ि़डयां पानी में बह गई। सोमवार देर शाम बारिश बंद होने से लोगों ने थोड़ी राहत की सांस ली। यहां उज्जैन और देवास के लोग भी फंसे हुए है। अखिल भारतीय श्री श्वेतांबर फेडरेशन के पूर्व अध्यक्ष विजय मेहता ने बताया कि बद्री विशाल में दो किलोमीटर लंबा जाम लगा हुआ है। पहाड़ ढह गए हैं। इससे हालत बहुत बिगड़े गए हैं। यात्री घबराए हुए हैं। हम लोग जोशी मठ में रके हैं। पुलिस कर्मी द्वारा चढ़ाई से हमे रोकने से हम बद्रीनाथ से 15 किलोमीटर पहले लौट आए थे। हमने 17 किलोमीटर की च़़ढाई पूरी कर ली थी। वापस लौटने से पहाड़ पर फंसने से बच गए यात्रियों के इस दल में रेडीमेड व्यापारी संघ के अध्यक्ष शांतिप्रिय डोसी, हेमंत वोरा, वीरेंद्र जैन, राजेंद्र लुनिया, संजय लुनिया, विनय कुमठ, मुकेश जैन आदि फंसे हुए हैं। यहां विधायक मालिनी गौड़ और पाषर्षद लक्ष्मी हेमंत के रिश्तेदार भी फंसे हुए हैं।