19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
26/11 मामले में चार गवाहों को समन
29-06-2013

लाहौर। पाकिस्तान की एक अदालत ने मुंबई हमलों [26/11] के मामले में चार गवाहों को छह जुलाई को पेश होने के लिए समन जारी किया है। इस मामले में लश्कर-ए-तैयबा के कमांडर जकीउर रहमान लखवी समेत सात लोग आरोपी हैं। इस्लामाबाद की आतंकवाद निरोधी अदालत के जज कौसर अब्बास जैदी ने कहा कि वह अगले सप्ताह रावलपिंडी की अदियाला जेल के बंद कमरे में मामले की सुनवाई करेंगे। सूत्रों ने बताया कि जज ने तबतक इस्लामाबाद में सुनवाई करने से इन्कार कर दिया है जबतब नवाज शरीफ सरकार सियालकोट जिले में स्थित उनके घर से कोर्ट तक उन्हें सुरक्षा उपलब्ध नहीं कराती है। दो सप्ताह पहले मामले को रावलपिंडी की आतंकवाद निरोधी अदालत से नव गठित इस्लामाबाद की आतंकवाद निरोधी अदालत में स्थानांतरित किया गया था। इस मामले में जज जैदी की यह पहली सुनवाई थी, इसलिए बचाव पक्ष के वकील रियाज चीमा ने उन्हें मामले की जानकारी दी। जैदी ने जज चौधरी हबीब-उर-रहमानका स्थान लिया है। उन्होंने बचाव पक्ष के अनुरोध पर चार गवाहों हमजा बिन तारिक, मुहम्मद अली, मुहम्मद सैफुल्ला खान और उमर दराज खान को जिरह के लिए समन जारी किया है। ये लोग बंदरगाह शहर कराची से ताल्लुक रखते हैं। इन गवाहों ने तीन महीने पहले दी गवाही में जज को बताया था कि सात आरोपियों में से एक शाहिद जमील रियाज और दस अन्य व्यक्तियों ने उनसे 11 मोटर बोट खरीदी थी। गवाहों ने 26 नवंबर, 2008 को मुंबई पर हमला करने की साजिश में शामिल अजमल कसाब समेत 10 लोगों की पहचान भी की थी। अदालत ने इन दसों को भगोड़ा घोषित किया हुआ है।