15 February 2019



राष्ट्रीय
स्वायत्तता पर रुख स्पष्ट करें उमर: भाजपा
29-06-2013
जम्मू-कश्मीर में सत्ताधारी दल नेशनल कांफ्रेंस और भाजपा के बीच संविधान के अनुच्छेद 370 को लेकर इन दिनों घमासान मचा हुआ है। जम्मू-कश्मीर भाजपा के मुख्य प्रवक्ता डॉ. जितेंद्र सिंह ने शनिवार को मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला से राज्य की स्वायत्तता पर अपना रुख स्पष्ट करने की मांग की। इसके अलावा उन्होंने कहा कि उन्हें यह बताना चाहिए कि जब 1975 से 1983 तक शेख मुहम्मद अब्दुल्ला राज्य के मुख्यमंत्री थे, उन्हें कांग्रेस का समर्थन भी हासिल था, तब जम्मू-कश्मीर को स्वायत्तता क्यों नहीं दी गई? सिंह ने कहा कि यह सबको मालूम है कि नेशनल कांफ्रेंस स्वायत्तता का मुद्दा उसी समय उठाती है जब वह विपक्ष में हो या फिर उसे सत्ता से हटने का डर सता रहा हो। गौरतलब है कि भाजपा जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को हटाने को मुद्दा बना रही है, नेशनल कांफ्रेंस जिसका विरोध कर रही है। राजग के सत्ता में रहने के दौरान अनुच्छेद 370 नहीं हटाने और बाद में उसे मुद्दा बनाने संबंधी उमर अब्दुल्ला की टिप्पणी पर जितेंद्र सिंह ने कहा कि उमर को यह नहीं भूलना चाहिए कि जब केंद्र में राजग की सरकार थी तो वह भी उसमें शामिल थे। अनुच्छेद 370 हटाना भाजपा का मुद्दा है, न कि राजग का। राजग में कई सहयोगी थे और उस समय इसे हटाना राजग के एजेंडे में नहीं था। सिंह ने कहा कि अनुच्छेद 370 को हटाने का संविधान में पहले से ही प्रावधान है। ट्विटर पर इन मुद्दों पर बहस नहीं हो सकती। अगर उमर चाहते हैं तो खुले मंच पर भाजपा नेताओं के साथ इस पर बहस करें। दो दिन पहले उमर अब्दुल्ला ने अनुच्छेद 370 के मसले को लेकर भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी की चुप्पी पर प्रश्नचिन्ह लगाया था, इसका भाजपा ने कड़ा विरोध जताया। हालांकि, शुक्रवार को आडवाणी ने इस मसले पर ब्लॉग लिखा और उमर को संयम बदलने की सलाह भी दी।