21 February 2019



प्रमुख समाचार
राघवजी पर कई और नये दाग
08-07-2013
अपने नौकर के यौन शोषण के आरोप से घिरे भाजपा नेता व पूर्व मंत्री राघवजी के मामले में कई परतें खुलती जा रही हैं, तथा कई अन्य लोग भी संदेह के घेरे में आ रहे हैं। उनसे पीड़ित युवक ने रविवार को मीडिया के सामने आकर राघवजी पर कई सीधे आरोप लगाये और यहां तक कहा कि वे उससे लड़कियां या लड़के लाने की मांग करते थे। पीड़ित युवक राजकुमार सिंह दांगी रविवार को नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह के साथ उनके सरकारी निवास सी/19 पर प्रकट हुआ। उसके साथ विदिशा जिले के कई कांग्रेस नेता और कुरवाई की पूर्व कांग्रेस विधायक पानबाई भी थीं। राजकुमार ने पत्रकारों को अपनी कहानी बताते हुए कहा कि वह बेहद गरीब परिवार का है,उसके माता-पिता के अलावा दो बहन व तीन भाई हैं। परिवार की बेबसी दूर करने के उदेश्य से वह भोपाल आया था। यहां हमीदिया कालेज से बीए के बाद नौकरी की तलाश में था। इसी सिलसिले में राघवजी के बंगले पहुंचा, जहां शेरसिंह चौहान से उसकी चर्चा हुई। शेरसिंह खुद को दिग्गजों का रिश्तेदार बताता है। बातचीत के बाद सितंबर 2010 से वह मंत्री राघवजी के बंगले पर रहने लगा। उसकी नौकरी सोम डिस्टलरी में लगवा दी गई। यहां राघवजी ने उससे छह महीने तक हाथ पांव दबावाये, फिर उन्होंने तेल-बोरोप्लस आदि लगवाना शुरू कर दिया। और अप्राकृतिक सेक्स भी करने लगे। राजकुमार ने बताया कि राघवजी को वह पितातुल्य मानता था, उनके इस कृत्य को पसंद नहीं करता था, लेकिन राघवजी के दबाव और डर व शर्म के चलते सहता रहा। उसने दावा किया कि राघवजी ने उससे यह भी कहा कि ये बात बंगले के स्टाफ और किसी अन्य से नहीं कहना। राजकुमार ने कहा कि शेरसिंह और उसके साले सुरेश ने भी उसके साथ अप्राकृतिक कृत्य किया। राजकुमार के मुताबिक शेरसिंह की पत्नी के साथ भी राघवजी के लंबे समय से अवैध संबंध हैं। वे स्मार्ट ल़़डकों को निजी जॉब दिलाने का ऑफर देकर फंसाते हैं। और ऐसे ल़़डके व ल़़डकी उनके पास लाने का भी दबाव डालते थे,इसके अलावा गांव में किसी दांगी परिवार की ल़़डकी से शादी भी कराना चाहते थे,ताकि उसके साथ भी अपना मकसद पूरा कर सकें। राजकुमार को वे राजकुमारी और अपनी पत्नी तक कहते थे। मैंने खुद बनवाई सीडी राजकुमार ने खुलासा किया कि उसकी राघवजी के बंगले पर आने वाले भाजपा नेता शिवशंकर पटैरिया से मुलाकात हुई। तो उन्होंने काम और अन्य हालचाल पूछे। चूंकि वे कुरवाई के ही हैं, लिहाजा उन्होंने अपने घर बुलाया। राजकुमार के अनुसार उसने अपने साथ हो रहे सभी कृत्यों की जानकारी पटैरिया को दे दी। पटैरिया ने छह हजार र कीमत का कैमरे वाला पैन दिया। इसके बाद राजकुमार ने इससे व मोबाइल फोन से अपने साथ होने वाले कुकृत्यों की सीडी बनाई। राजकुमार का कहना है कि उसने पहली सीडी पटैरिया को दी, लेकिन पटैरिया ने उससे और सीडी बनाकर देने को कहा। राजकुमार ने बताया कि जब वह सीडी पटैरिया ने सही जगह नहीं पहुँचाई और मुकर गये, तो फिर उसने अपने साथी घनश्याम के साथ खुद ही सीडी बनाकर सारा राज खोलने का निश्चय कर लिया। राजकुमार ने बताया कि वह थाने में शिकायत करने पहुंचा था लेकिन पुलिस ने उसे आवेदन लेकर चलता कर दिया। जान से मारने की धमकी राजकुमार सिंह दांगी ने कहा कि उसने राघवजी के बंगले से भागने की कोशिश भी की, लेकिन शेरसिंह चौहान व सुरेश ने उसे धमकाया। उसने कहा कि थाने पहुंचने के बाद से वह भोपाल में ही अपने एक मित्र के पास था। उसने खुद को खतरे में भी बताया। और यह भी कहा कि भाजपा सरकार ने दबाव डालकर गांव में उसके पिता से झूठे बयान आदि दिलवाये हैं। राजकुमार ने कहा वह मानसिक रूप से बीमार नहीं है और अपना मेडिकल परीक्षण भी कराने के लिये तैयार है।