24 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
नेपाल को फिर से हथियार देगा भारत
12-07-2013

काठमांडू। भारत ने आठ साल के बाद नेपाल सेना को सैन्य साजो-सामान की आपूर्ति करने का निर्णय लिया है। फरवरी, 2005 में तत्कालीन राजा ज्ञानेंद्र शाह द्वारा सत्ता हाथ में लेने के बाद भारत ने सैन्य आपूर्ति रोक दी थी। नेपाल सेना मुख्यालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने गुरुवार को बताया कि सेना की मांग पर भारत ने रक्षा उपकरणों, वाहन समेत विभिन्न सैन्य उपकरण देने का निर्णय लिया है। इनमें ज्यादातर उपकरण घातक नहीं हैं। इनमें वाहन, कपड़े, संचार उपकरण आदि शामिल हैं। हालांकि, आम जरूरतों के हथियार भी दिए जाएंगे। विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद एक दिवसीय यात्रा पर मंगलवार को नेपाल पहुंचे थे। इसके बाद भारतीय दूतावास ने बयान जारी कर कहा था कि माओवादी लड़ाकों को सेना में शामिल किए जाने के बाद नेपाल सरकार ने उपकरण खरीद को मंजूरी दे दी है। आने वाले कुछ माह में भारत सरकार द्विपक्षीय समझौते के तहत नेपाल को रक्षा सामान देगा। नेपाल ने 109.44 करोड़ रुपये [1.83 करोड़ डॉलर] का सामान तुरंत मांगा है। इससे पहले माओवादी नेपाल सेना के लिए उपकरण खरीद का विरोध कर रहे थे। उनका कहना था कि सरकार और माओवादियों में 2006 में हुए समझौते का पालन पूरा होने तक कोई खरीद नहीं होनी चाहिए। छह साल तक चली वार्ता के बाद धीरे-धीरे माओवादियों को सेना में लिया गया। पिछले हफ्ते आखिरी 1,352 लड़ाकों का ट्रेनिंग कार्यक्रम पूरा हुआ और सरकार ने रक्षा खरीद को मंजूरी दे दी।