17 February 2019



प्रादेशिक
मौत बनकर आई जन्मदिन वाली रात
18-07-2013

इंदौर। काम खत्म कर साइकिल से घर लौट रहे कॉल सेंटरकर्मी को अज्ञात वाहन ने टक्कर मार दी। उसने इलाज के दौरान अगले दिन दम तोड़ दिया। उससे मिली डायरी में लिखे नंबर पर फोन किया तो परिजन का पता चला। हादसे वाले दिन उसका जन्मदिन था। प्रारंभिक जांच में आया है कि उसका मोबाइल और आईकार्ड गायब है। विजय नगर पुलिस के अनुसार घटना 15 जुलाई की रात मेघदूत गार्डन के पास हुई। मृतक शशिनाथ [20] पिता तीर्थनाथ वर्मा निवासी शंकरपट [कुशीनगर, यूपी] का रहने वाला है। वह इन्फोसिस कंपनी में कॉल सेंटर ट्रेनी था और आईटीआई के पास जय अंबे नगर में रहता था। भाई शंकर वर्मा ने बताया कि कुछ माह पहले ही वह इंदौर आया था। उसका 15 जुलाई को जन्मदिन था। जांचकर्ता एएसआई जे देव़़डा ने बताया कि सोमवार रात वह मेघदूत गार्डन के पास घायल पड़ा था। उसे एमवायएच में भर्ती किया गया। दो दिन बाद शिनाख्त एएसआई देवड़ा ने बताया कि उसके जेब से सिर्फ एक डायरी मिली थी, जिसमें कुछ नंबर थे। उनके आधार पर दो दिन बाद उसकी शिनाख्त हो सकी थी। कंपनी के लोगों का कहना है कि किसी भी कर्मचारी के पास उसका परिचय-पत्र और मोबाइल जरूर होता है, जो अभी तक पुलिस को नहीं मिला। पुलिस जांच कर रही है।