19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
सऊदी में मजदूरों की कमी से 36 फीसद परियोजनाएं अटकीं
23-07-2013

दुबई। सऊदी अरब की 36 प्रतिशत निर्माण परियोजनाएं इस समय कर्मचारियों की कमी से जूझ रही हैं। हाल में सरकार द्वारा लागू की गई नई श्रम नीति के बाद से हजारों विदेशी कर्मचारी स्वदेश लौट गए हैं। अरब न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, जरूरत से अधिक समय से यहां रह रहे प्रवासी कर्मचारियों को अपनी कानूनी स्थिति स्पष्ट करने के लिए जो अतिरिक्त समय दिया गया था, वह गत चार जुलाई को समाप्त हो गया। इससे पहले यहां पर ढाई लाख से अधिक पंजीकृत निर्माण कार्य चल रहे थे। निताकत कानून लागू होने के बाद से छोटी निर्माण कंपनियों की करीब 90 हजार पंजीकृत परियोजनाएं बंद कर दी गई। नेशनल कमेटी इन सऊदी चेंबर के सदस्य रईद अकीली के हवाले से रिपोर्ट में कहा गया है कि कई बड़ी निर्माण परियोजनाएं सरकार के फैसले से प्रभावित हुई हैं। आने वाले महीनों में समस्या और भी बढ़ सकती है। निताकत कानून के तहत स्थानीय कंपनियों के लिए प्रति दस प्रवासी कर्मचारियों पर एक सऊदी नागरिक को नौकरी देना जरूरी कर दिया गया है। नतीजतन कानूनी रूप से अवैध वर्क परमिट रखने वाले अनेक विदेशी कर्मचारी स्वदेश लौट रहे हैं। सऊदी अरब प्रशासन ने निताकत कानून के तहत पिछले चार महीनों में चालीस लाख विदेशी कर्मचारियों का पंजीकरण किया है। सऊदी के राजा अब्दुल्ला बिन अब्दुल्ला अजीज ने अवैध रूप से रह रहे विदेशी कर्मचारियों को रियायत की अवधि आगामी चार नवंबर तक के लिए बढ़ा दी है। रियायत की अवधि समाप्त होने के बाद अवैध प्रवासियों को जेल में डाल दिया जाएगा और भारी जुर्माना भी लगाया जाएगा।