19 February 2019



खेलकूद
शतकवीर कोहली के दम पर टीम इंडिया का विजयी आगाज
24-07-2013

हरारे। भारत-जिंबॉब्वे के बीच जारी पांच एकदिवसीय मैचों की सीरीज के पहले मैच में गेंदबाजों के जानदार प्रदर्शन और फिर बेहतरीन बल्लेबाजी के दम पर भारतीय टीम ने जीत के साथ आगाज किया है। भारत ने 6 विकेट से मेजबान टीम को मात दी और सीरीज में 1-0 की बढ़त हासिल कर ली। इस जीत के हीरो रहे कप्तान विराट कोहली जिन्होंने अपने करियर का 15वां शतक जड़ा। वहीं वह इस शतक के साथ सबसे कम उम्र में 15वां शतक जड़ने वाले खिलाड़ी बन गए। मैच से अपने वनडे करियर का आगाज करने वाले अंबाती रायुडू 59 रन पर नाबाद रहे। भारत ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया और पहले बल्लेबाजी करने उतरी मेजबान टीम ने शुरुआत के धीमे खेल के बावजूद भारत को 229 रनों का लक्ष्य दिया। जिंबॉब्वे को पहला झटका सिबांदा (34) के रूप में लगा। उन्हें अमित मिश्रा ने एलबीडब्ल्यू किया जबकि दूसरा झटका सुरेश रैना ने दिया जिन्होंने विलियम्स (15) को बोल्ड किया। इसके कुछ ही गेंदों के बाद अमित मिश्रा ने एक बार फिर जिंबॉब्वे को झटका देते हुए अपना दूसरा विकेट हासिल किया और मस्काद्जा (11) को बोल्ड करते हुए भारत को तीसरा सफलता दिलाई। इसके बाद कप्तान ब्रैंडन टेलर (12) को उनादकट ने पवेलियन का रास्ता दिखाया और वह रैना के हाथों कैच होकर भारत का चौथा शिकार बने। 162 के स्कोर पर टेलर के आउट होने के ठीक चार रन के बाद शमी अहमद ने भारत को पांचवीं सफलता भी दिला दी और मैलकम वॉलर (2) सस्ते में बोल्ड होकर पवेलियन लौट गए। भारत को छठी सफलता सिकंदर रजा (82) के रूप में मिली जिन्होंने बेहतरीन पारी खेली। रजा को मिश्रा ने बोल्ड किया और अपना तीसरा विकेट भी हासिल किया। फिर भारत को सातवीं सफलता तिनोतेंदा मुतोंबोद्जी (8) के रूप में मिली जिन्हें विनय कुमार ने धवन के हाथों कैच कराया। जिंबॉब्वे की पारी के दौरान सलामी जोड़ी की 72 रनों की शानदार साझेदारी और उसके बाद सिकंदर रजा की 82 रनों की पारी के दम पर वे 200 पार जाने में सफल रहे और भारत के सामने 229 रनों का लक्ष्य रखा। भारत की तरफ से अमित मिश्रा सबसे सफल गेंदबाज रहे जिन्होंने 10 ओवर में 43 रन देते हुए तीन विकेट हासिल किए। जवाब में उतरी भारतीय टीम की शुरुआत खराब रही और 26 के स्कोर पर 7वें ओवर में ही शिखर धवन के रूप में उन्होंने पहला झटका खाया। धवन ने 17 रन बनाए और वह हुक शॉट खेलने के चक्कर में जार्विस की गेंद पर अपना कैच वॉलर को थमा बैठे और इसके बाद 57 के कुल स्कोर पर रोहित शर्मा (20) भी एल्टन चैगुंबरा की गेंद पर विकेट के पीछे कीपर के हाथों कैच होकर जिंबॉब्वे को दूसरा विकेट थमा बैठे। इसके बाद बेहतरीन बल्लेबाजी का मुजायरा करते हुए कोहली और रायुडू शतकीय साझेदारी को अंजाम देने में सफल रहे। कप्तान कोहली ने अंतिम क्षणों में आउट होने से पहले 108 गेंदों पर जानदार 115 रन बनाए। यह कोहली के वनडे करियर का 15वां शतक था। वहीं, दूसरे छोर पर अपने वनडे करियर का आगाज करने उतरे अंबाती रायुडू (नाबाद 59) ने भी इस मौके का पूरा फायदा उठाते हुए अर्धशतक जड़ा और वह नाबाद रहे। अंत में विराट व रैना (0) के रूप में दो और सफलताएं जिंबॉब्वे को जरूर हासिल हुईं लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी और भारत ने 44.5 ओवर में 6 विकेट से शानदार जीत दर्ज की और टूर्नामेंट में 1-0 की बढ़त अपने नाम कर ली।