17 February 2019



प्रमुख समाचार
मुझे तो संतोष है, जनता मुझे देखेगी: शिवराज
25-07-2013
मुझे संतोष है, मैंने काम किया है और ईमानदारी से किया है इसलिए मैं तो यह मानकर चल रहा हूं कि इस बार भी नतीजे मेरे पक्ष में रहेंगे और पहले से बेहतर रहेंगे। मैं यह इतने आत्मविश्वास से इसलिए कह रहा हूं कि सब मैदान में दिख रहा है, कोई सपना नहीं है। अब मेरा लक्ष्य अगले 50 साल की जरूरतों के मुताबिक प्रदेश का विकास है और सरकार विजन प्लान बनाकर इसी पर काम कर रही है।

यह कहना है मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का। मंगलवार को जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान महिदपुर से नागदा के बीच रथ में मुख्यमंत्री ने कहा कि इस समय जनता मुझे देख रही है इसलिए बाकी सब बातें गौण रहेंगी। विधायकों के खिलाफ असंतोष व इससे पार्टी को नुकसान के मुद्दे पर शिवराज बोले- मुझे तो ऐसा नहीं लगता और यदि कहीं ऐसा है भी तो ब्रांड शिवराज के सामने ऐसे फैक्टर गौण साबित होंगे। जनता का मुझ पर पूरा भरोसा है और मैं तो खुद उनसे कह रहा हूं कि भैया मुझे देखो, कमल पर मुहर लगाओ और एक बार फिर भाजपा की सरकार बनवा दो।

निर्णय थोपे नहीं

बकौल शिवराज मुझे जनता पर भरोसा था इसलिए मैंने जनता को सहभागी बनाकर काम किया है। निर्णय थोपे नहीं गए हैं बल्कि जनता की सहभागिता रही है इसलिए नतीजे भी अच्छे रहे हैं। मैं तो बार-बार ये दावा करता हूं और चुनौती देता हूं कि कांग्रेस के नेताओं को कि आप जिस फोरम पर चाहो, मुझसे विकास के मुद्दे पर खुली बहस कर लो पर वे इससे मुंह चुराते हैं और बस आरोपों की राजनीति में लगे रहते हैं। आरोप भी ऐसे कि जो कभी साबित ही नहीं हो पाते। मैं लोगों से जो वादे करता हूं, वे पूरे करता हूं। मेरे पास मेरी एक-एक घोषणा और उस पर क्रियान्वयन का हिसाब है।

सभी समय दे रहे

घूंघट काढ़ने वाली और घाघरा लूगड़ा पहनने वाली गांव की एक महिला जिसने कभी घर से बाहर कदम नहीं रखा, वह छात्र जिसे राजनीति से कोई वास्ता नहीं है, वह किसान जो इस मौसम में खेत से बाहर निकलता नहीं, वे मुझे अपना समय दे रहे हैं। कहीं न कहीं वे मुझे अपने बीच का तो मानते हैं न। अब राजा, महाराजा का दौर गया पर एक किसान का बेटा कैसे राज कर ले, यह इन्हें पच नहीं रहा है।

दूरगामी नतीजे मिलेंगे

मध्यप्रदेश को लेकर भविष्य की अपनी योजनाओं पर मुख्यमंत्री बोले-सड़क, पानी व बिजली के मामले में हम एक स्तर तो पार कर चुके हैं।

अब मेरा ध्यान उन योजनाओं पर है, जिनसे दूरगामी नतीजे मिलेंगे। हम एक विजन प्लान बनाकर इस पर काम कर रहे हैं। इसमें विशेषज्ञों की मदद भी ले रहे हैं। सिंचाई के मामले में अब हम मंझली योजनाओं पर काम कर रहे हैं ताकि सिंचाई का रकबा और ब़़ढे। लघु उद्योगों को हम और विस्तार दे रहे हैं ताकि इनसे स्थानीय स्तर पर रोजगार के अवसर ब़़ढ सकें। इसी तरह जो एजुकेशन हब हम प्लान कर रहे हैं, उसमें भी ऐसे संस्थान लाए जाएंगे जो युवाओं को उनकी भविष्य की जरूरतों के मुताबिक तैयार कर सकें। हमारा एक जोर ब़़डे शहरों के आसपास सैटेलाइट टाउनशिप विकसित करने पर है। प्रदेश की सभी ब़़डी स़़डकें ठीक हो गई हैं। अब हम पहुंच मार्गो को ठीक करने में लगे हैं और हमारा लक्ष्य टोले-मजरे तक की स़़डकें हैं।

बिजली के मामले में 17 हजार मेगावॉट बिजली की उपलब्धता का प्लान हमारे पास तैयार है। इसके बाद हम वैकल्पिक ऊर्जा के स्रोतों पर काम कर रहे हैं। इसके चलते जावद में 400 मेगावॉट का और राजगढ़ में भी एक बड़ा सोलर हब हम तैयार करवा रहे हैं। पवन ऊर्जा के भी कुछ क्षेत्र हमने चिन्हित किए हैं, जिन पर काम चल रहा है।