16 February 2019



खेलकूद
हसी को भी दुख, कंगारुओं की हार भयावह अहसास
30-07-2013

सिडनी। पूर्व ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज माइकल हसी ने अपनी राष्ट्रीय टीम की इंग्लैंड के खिलाफ पहले दो टेस्ट मैचों में हार को भयावह अहसास करार दिया और कहा कि उन्हें खिलाड़ियों के प्रति दुख है। माइकल क्लार्क की अगुवाई वाली टीम पहले दो मैच गंवाने के बाद गुरुवार से ओल्ड ट्रैफर्ड में तीसरा टेस्ट मैच खेलने के लिए उतरेगी जो उसके के लिये करो या मरो जैसा होगा। लॉर्ड्स में दूसरा टेस्ट मैच उसने 347 रन के विशाल अंतर से गंवाया। इससे पहले उसने भारतीय दौरे में लगातार चार टेस्ट मैच गंवाए थे। हसी ने मेलबर्न में संवाददाताओं से कहा कि मुझे खिलाड़ियों के प्रति दुख है। मैं भी इस तरह की स्थिति में रहा हूं, जब हम अच्छा नहीं खेल रहे थे और मैच हार रहे थे और यह भयावह अहसास होता है। उन्होंने कहा कि मैं कुछ खिलाड़ियों के संपर्क में हूं। मैं जानता हूं कि बैगी ग्रीन कैप पहनने पर उन्हें गर्व है और मुझे विश्वास है कि आखिरी कुछ टेस्ट मैचों में टीम अच्छा प्रदर्शन करेगी।