16 February 2019



राष्ट्रीय
शहीद प्रेमनाथ के गांव वालों ने मंत्री को बनाया बंधक
09-08-2013
राज्य सरकार के साथ-साथ स्थानीय विधायक की असंवेदनशीलता एवं मंत्री भीम सिंह के बेतुके बयान से शहीद के परिजनों के साथ-साथ गांव वालों में भी आक्रोश देखा जा रहा है। दो दिन बाद शहीद प्रेमनाथ के परिजनों को सांत्वना देने गुरुवार को सम्हौता पहुंचे स्थानीय विधायक व सूबे के विज्ञान व प्रौद्योगिकी मंत्री गौतम सिंह को लोगों का आक्रोश झेलना पड़ा। आक्रोशित लोगों ने मंत्री को करीब दो घंटे तक बंधक बनाए रखा। तमाम सफाई व आश्वासन देने के बाद भी मंत्री को ग्रामीणों ने शहीद की पत्नी व मां से नहीं मिलने दिया। बाद में कुछ लोगों के समझाने-बुझाने पर शहीद के भाई से ही मिलकर मंत्री को वापस लौटना पड़ा। लोगों की शिकायत थी कि राज्य सरकार के साथ-साथ मंत्री ने भी असंवेदनशीलता की हद पार कर दी। आने की बात तो दूर, फोन से भी हाल चाल नहीं पूछा। इसके साथ ही गांव वाले शहीद के परिजन के लिए नौकरी की भी मांग कर रहे थे। इस बात पर मंत्री ने कहा कि वे उनके दर्द को समझते हैं। जिस बटालियन में शहीद प्रेमनाथ तैनात थे, उसमें वे भी काम कर चुके हैं। उन्होंने आश्वासन दिया कि परिजनों की नौकरी के लिए वे हर संभव प्रयास करेंगे।