18 February 2019



प्रादेशिक
मप्र में डैम से पानी छोड़े जाने पर 400 गांव डूबे
25-08-2013
बरगी, तवा और बारना डैम से लाखों क्यूसिक पानी छोड़े जाने से प्रदेश के होशंगाबाद व सीहोर जिले में नर्मदा नदी के उफान से 400 से अधिक गांव जलमग्न हो गए।

गुरुवार देर रात से नर्मदा दोनों जिलों में खतरे के निशान से 18 फुट ऊपर बह रही है। बाढ़ प्रभावितों को निकालने के लिए सेना व पुलिस के तीन हजार जवान और तीन हेलीकाप्टर लगाए गए हैं। इस बीच होशंगाबाद में एक बच्चा व छिंदवाड़ा में एक महिला तेज बहाव में बह गए।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई निरीक्षण कर राहत कार्यो में तेजी लाने के आदेश दिए हैं। होशंगाबाद में बाढ़ के चलते शहर के आठ राहत शिविरों में हजारों लोगों ने शरण ले रखी है। जिले के 70 से अधिक गांव पानी में घिरे हैं। जबकि सीहोर जिले के 325 गांवों में बाढ़ का पानी भरा है।

इस बीच बैतूल-इटारसी बरबटपुर स्टेशन के पास डाउन ट्रैक का करीब 30 मीटर हिस्सा भारी बारिश में बह गया और एक दर्जन से अधिक ट्रेनें प्रभावित हुई हैं।