21 February 2019



प्रमुख समाचार
मुझे नहीं तो शिवराज, साधना या झा को दो हुजूर से टिकट : डागा
26-08-2013

भोपाल की हुजूर विधानसभा सीट से विधायक जितेंद्र डागा ने आंतरिक सर्वे के दौरान लिखित में तीन दावेदारों का यह पैनल देकर पार्टी नेताओं को चौंका दिया कि उनकी जगह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, उनकी पत्नी साधना सिंह या भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा को टिकट दिया जाए।

डागा ने पैनल देने के बाद पार्टी की तरफ से आंकलन करने बैठे पर्यवेक्षक प्रभात झा व विंध्य विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष अजय प्रताप सिंह से यह भी कह दिया कि सीट सुरक्षित हो गई है, इसलिए दावेदारों की संख्या बढ़ गई है। पैनल देकर लौटे डागा ने मीडिया के सामने भी यही बात दोहराई। विधायक विश्राम गृह में रविवार को दिनभर आंतरिक सर्वे हुआ।

लिखित पैनल देने वालों में सर्वाधिक संख्या 61 हुजूर विधानसभा की ही रही। इससे पहले मध्य और नरेला के लोगों से राय पूछी गई। मध्य पर जब पूर्व व वर्तमान जनप्रतिनिधि, पदाधिकारी व मीसाबंदी राय दे रहे थे, तब विधायक ध्रुवनारायण सिंह पहुंचे। प्रोफॉर्मा भी लिया, पर पैनल में नाम नहीं दिया। भोपाल जिले की कुल सात विधानसभा सीटों मध्य, नरेला, हुजूर, बैरसिया, दक्षिण-पश्चिम, उत्तर और गोविंदपुरा के लिए पैनल में नाम दिए गए।

यह आंतरिक लोकतंत्र है : प्रभात झा और सांसद अनिल माधव दवे ने इस सर्वे को पार्टी का आंतरिक लोकतंत्र बताया। उन्होंने दावा किया कि इस गुप्त मतदान में मिले पैनल में से ही टिकट तय होंगे।

आरोप भी लगे

पार्टी के आंतरिक सर्वे को लेकर विधायकों ने सवाल खड़े किए। उनका कहना था कि शहर और ग्रामीण संगठन में कई पदाधिकारियों की नियुक्ति जिलाध्यक्षों क्रमश: आलोक शर्मा और भक्तपाल सिंह ने की और वे जिलाध्यक्ष ही दावेदारों की श्रेणी में खड़े थे। दोनों जिलाध्यक्ष पूरे समय वहां मौजूद भी रहे। हुजूर सीट के एक मीसा बंदी कल्लू छितवानी ने इस बात पर तीखी आपत्ति व्यक्त।

राय देने वालों की सूची ले गए गौर

आंतरिक सर्वे का कार्य जब अंतिम दौर में था तब, नगरीय प्रशासन मंत्री बाबूलाल गौर विधायक विश्राम गृह पहुंचे और राय देने वालों की सूची मांगी। गौर का कहना था कि वे तमाम पदाधिकारियों को धन्यवाद देना चाहते हैं। गौरतलब है कि पार्टी की ओर से पहले ही तमाम दावेदारों की पहले से ही सूची बांट दी गई थी। इसका दावेदारों ने लाभ भी उठाया। आंतरिक सर्वे से पहले ही फोन और व्यक्तिगत रूप से दावेदारों ने राय देने वालों से संपर्क साधा।

पैनल के साथ बताईं समस्याएं

-मर्जर एग्रीमेंट का मसला

-कैचमेंट में किसानों की जमीनों का विवाद ञ्च70 गांवों का नगर निगम भोपाल में विलय का विरोध

-बस्तियों में पानी की निकासी नहीं

-कोलार में पेयजल की दिक्कत ञ्चजनप्रतिनिधियों द्वारा जमीनों पर अवैध कब्जों की शिकायत

 

पैनल में दावेदारों के नाम की कतार

-मध्य : 50 में से 44 पहुंचे। ञ्चदावेदार : ध्रुवनारायण सिंह (विधायक), आलोक संजर, सुनील पांडे, ओम यादव व राम किशोर वर्मा। ञ्चनरेला : 28 में से 27 पहुंचे। ञ्चदावेदार :विश्वास सारंग (विधायक), चेतन सिंह, रमेश शर्मा गुट्टू भैया। ञ्चहुजूर : 63 में से 61 पहुंचे। ञ्चदावेदार : जितेंद्र डागा (विधायक), रामेश्वर शर्मा, भक्तपाल सिंह, प्रकाश मीरचंदानी, आलोक शर्मा, सूरज सिंह मारण, सुशील वासवानी व भागीरथ पाटीदार। ञ्चबैरसिया : 50 में से 46 पहुंचे। ञ्चदावेदार : ब्रrानंद रत्नाकर, किशनलाल मेहर, विष्णु खत्री, किशन सूर्यवंशी व बारेलाल अहिरवार। ञ्चदक्षिण-पश्चिम : 59 में से 44 पहुंचे। ञ्चदावेदार : उमाशंकर गुप्ता (गृहमंत्री) व सुरेंद्र नाथ सिंह (बीडीए अध्यक्ष)। ञ्चउत्तर : 48 में से 40 पहुंचे। ञ्चदावेदार : आलोक शर्मा, रमेश शर्मा गुट्टू भैया, ओम मेहता, अशोक सैनी व सलीम कुरैशी।  ञ्चगोविंदपुरा : 51 में से 42 पहुंचे। ञ्चदावेदार : बाबूलाल गौर (नगरीय प्रशासन मंत्री), कृष्णा गौर, तपन भौमिक व दीपक विजयवर्गीय।

ये अनुपस्थित रहे

विजय तिवारी, रघुनंदन शर्मा, उमा भारती, शैतान सिंह पाल, कप्तान सिंह सोलंकी, कृष्णा गौर, बनवारी लाल सक्सेना, उमाशंकर गुप्ता, नजमा हेपतुल्ला, कैलाश सारंग व कय्यूम भाई। पर्यवेक्षक प्रभात झा ने कहा कि जो भी बड़े नेता अनुपस्थित रहे, उनसे फोन पर बात करेंगे।

प्रदेश का हाल

ञ्च18 अगस्त को 21 जिलों में सर्वे ञ्च24 अगस्त को विदिशा का आंकलन ञ्च25 अगस्त को 16 जिलों का पैनल लिया ञ्च27 अगस्त को शेष जिलों इंदौर (शहर व ग्रामीण), गुना, होशंगाबाद, खंडवा, हरदा, बैतूल, शाजापुर, देवास, कटनी, सागर और सिवनी का सर्वे होगा