15 February 2019



राष्ट्रीय
जन्माष्टमी पर चीन ने भारत के बाजार में भेजी गीता, जानिए विशेषताएं
28-08-2013
चीन देश की सीमा के अंदर तक तो कदम बढ़ा ही रहा है, अब उसने भारत की आस्था के संसार में भी नया रास्ता खोल लिया है। इस नए रास्ते का पहला मुकाम है गीता। इस धर्म ग्रंथ के सहारे चीन ने सनातन धर्म के प्रमुख प्रचारक संस्थान गीता प्रेस को भी करारी प्रतिस्पर्धा के मोड़ पर लाकर खड़ा कर दिया है। ड्रैगन का भारतीय बाजार में यह नया पासा लघु गीता है। गीता भी ऐसी जिसे जब चाहें मुट्ठी में रख लें और जब चाहें जेब में। चीन ने जन्माष्टमी पर भारतीय बाजारों में बेहद आकर्षक गीता उतारी है।

चीन की गीता में खूबियांइस नन्हीं श्रीमद् भगवद् गीता में 730 पेज हैं। इसमें अक्षरों की छपाई का विशेष ध्यान रखा गया है ताकि पढ़ने में कोई दिक्कत न हो। पन्ने प्लास्टिक के हैं, जो न तो फटेंगे और न ही पानी में भीगकर खराब होंगे। मंडी चौक स्थित राकेश कुमार गोटा वाले के संचालक अभिषेक अग्रवाल कहते हैं कि खास जन्माष्टमी के अवसर पर चीन ने गीता को बाजार में उतारा है। इससे युवा पीढ़ी श्रीकृष्ण जन्म मनाने के साथ उनके दिए उपदेश को चलते फिरते भी जान सकेगी।