15 February 2019



राष्ट्रीय
पूर्व बीएसएफ जवान के कश्मीर कनेक्शन की जांच
30-08-2013
डॉक्टर दंपति को इंडियन मुजाहिदीन [आइएम] के नाम से धमकी देने के आरोपी बीएसएफ के रिटायर्ड सब इंस्पेक्टर पवन के कश्मीर कनेक्शन की पड़ताल की जा रही है। उसे अब तक आतंकियों के साथ संबंध नहीं होने की क्लीन चिट नहीं मिली है। नोएडा पुलिस के साथ-साथ एटीएस से लेकर अन्य खुफिया एजेंसियां उसके बारे में पता कर रही हैं। पवन की पोस्टिंग बीएसएफ में कश्मीर में भी रही है। डॉक्टर विनय भट्ट भी कश्मीर के हैं और उन्हें धमकी देने वाले गैंग का मास्टरमाइंड पवन तीन साल तक आइजी हेड क्वार्टर, कश्मीर में तैनात रहा है। वर्ष 1988 में पवन ने बीएसएफ में नौकरी शुरू की थी। वर्ष 1993 से 1996 तक कश्मीर में तैनात रहा। हालांकि, उस वक्त आतंकी संगठन इंडियन मुजाहिदीन का गठन नहीं हुआ था। फिर भी खुफिया एजेंसियों को अंदेशा है कि हो सकता है कि कश्मीर के स्लीपर सेल से लेकर किसी अन्य आतंकी संगठन के साथ उसका कोई संबंध रहा हो। पवन दिल्ली स्थित बीएसएफ हेड क्वार्टर के साथ गृह मंत्रालय से भी रहा है।