15 February 2019



राष्ट्रीय
अपनी ही सरकार में उपेक्षित हूं: सिद्धू
05-09-2013

अमृतसर [जासं]। सांसद नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि मैं प्रदेश में अपनी ही, यानी अकाली-भाजपा सरकार में ही खुद को उपेक्षित महसूस कर रहा हूं। पंजाब सरकार कुछ मनपसंद सांसदों के क्षेत्रों में ही विकास के कामों पर करोड़ों रुपये की राशि बहा रही है। अमृतसर के विकास के नाम पर सरकार का खजाना खाली है।

विधानसभा चुनाव से पहले अमृतसर के विकास के लिए खजाने का मुंह खोल दिया गया था। अब लोकसभा चुनाव से पहले सरकार विकास के नाम पर उनसे भेदभाव क्यों कर रही है? सिद्धू गुरुवार को अपने घर पर अपनी पत्नी तथा पंजाब की मुख्य संसदीय सचिव डा. नवजोत कौर सिद्धू के साथ पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

अमृतसर को हक नहीं मिला तो सुधार ट्रस्ट को ताला लगवा दूंगा

लगभग एक वर्ष बाद अमृतसर लौटे सिद्धू के चेहरे पर चिंता व मायूसी भी साफ झलक रही थी। सिद्धू ने दो टूक कहा कि सरकार योजनाबद्ध ढंग से अमृतसर नगर सुधार ट्रस्ट की 60 करोड़ रुपये की राशि दूसरी नगर काउंसिलों को ट्रांसफर कर चुकी है, लेकिन वह अब और बर्दाश्त नहीं करेंगे। अब यदि सरकार ने अमृतसर नगर सुधार ट्रस्ट का धन बाहर भेजा तो वह ट्रस्ट को ताला लगाने पर मजबूर कर देंगे। हालांकि यह ताला कैसे लगेगा, इस पर सिद्धू ने कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया है। सिद्धू ने कहा कि ट्रस्ट के पास इस समय 105 करोड़ रुपये की राशि बैंकों में पड़ी है। यह राशि अमृतसर के विकास पर खर्च होनी चाहिए।

गठबंधन धर्म के कारण चुप हूंसिद्धू ने दो टूक शब्दों में कहा कि वह गठबंधन धर्म में बंधे हैं, इसलिए चुप हैं। उन्हें बादल साहिब से कोई शिकायत नहीं है, लेकिन दुख है कि विकास कार्य सरकार मनपंसद सांसदों के क्षेत्र में करवा रही है। सिद्धू ने कहा कि वह दो वर्ष पहले उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल से चंडीगढ़ में मिलने के लिए गए थे।

जहां उन्होंने अमृतसर के महत्वपूर्ण प्रोजेक्टों के बारे में उन्हें जानकारी दी थी। विधानसभा चुनाव के दौरान सुखबीर बादल ने अमृतसर में स्पो‌र्ट्स कांपलेक्स के लिए 25 करोड़ रुपये की राशि का प्रोजेक्ट तुरंत पास कर दिया, लेकिन उस पर काम अभी तक शुरू नहीं हुआ है।

पीएम को भी कठघरे में खड़ा किया सिद्धू ने कहा कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अमृतसर के विकास के लिए पांच हजार करोड़ रुपये देने का वादा किया था किंतु वह अब तक पूरा नहीं हुआ है।

इसके साथ ही अमृतसर में पांच करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले बायो टेक्निकल पार्क का निर्माण भी नहीं हुआ है और ना ही अमृतसर में वीजा केंद्र स्थापित किया गया है। अमृतसर को हेरीटेज का दर्जा भी नहीं दिया गया। सिद्धू ने कहा कि वह हमेशा भाजपा में ही रहेंगे।