21 February 2019



प्रादेशिक
मुख्यमंत्री का पंडाल गिरने से दो महिलाओं की मौत
05-09-2013

इंदौर। देपालपुर में मुख्यमंत्री के अटल ज्योति अभियान कार्यक्रम में पंडाल गिरने से हुई दो महिलाओं की मौत के मामले में हाई कोर्ट ने सख्त रख अपनाते हुए सरकार से जवाब मांगा है। बुधवार को हाई कोर्ट की युगल पीठ ने राज्य शासन, गृह विभाग और इंदौर कलेक्टर आकाश त्रिपाठी को नोटिस जारी किया है।

हाई कोर्ट न्यायमूर्ति पीके जायसवाल और न्यायमूर्ति सुभदा वाघमारे ने एडवोकेट मनीष विजयवर्गीय की जनहित याचिका पर सुनवाई की।

हाई कोर्ट ने एडवोकेट विजयवर्गीय से पूछा कि पीड़ित पक्षों ने यह याचिका क्यों नहीं लगाई है? इससे आपका क्या लेना-देना है। उन्होंने जवाब दिया कि उस कार्यक्रम में जो व्यक्ति घायल हुए थे वे इतने संपन्न नहीं हैं कि न्याय पाने के लिए इतनी लंबी कवायद कर सकें। जिन महिलाओं की पंडाल गिरने से मौत हुई थी, उनकी ओर से कोई याचिका पेश करने वाला भी नहीं है।

ये बिंदु भी याचिका में शामिल

-3 जुलाई को अटल ज्योति अभियान के शुभारंभ के दौरान गिरे भोजन के पंडाल से हुई महिलाओं की मौत की उच्च स्तरीय जांच की मांग की।

-भगदड़ में 15 लोग गंभीर रूप से घायल भी हुए थे, उन्हें मुआवजा देने की मांग की गई।

-भीड़ एकत्रित करने के लिए 250 बसें की गई थी, जिसमें स्कूल बसें और अन्य रूट की बसें शामिल थीं। इससे बच्चे स्कूल नहीं जा पाए और यात्रियों को परेशानी उठाना प़़डी। यह जवाब भी सरकार को देना होगा।

-जिन कार्यक्रमों में जनता के धन का गलत इस्तेमाल किया जा रहा है उसे बंद करने की मांग की गई।

-कार्यक्रमों से जनता परेशान न हो, इसके लिए शासन दिशा-निर्देश तय करे।

-उच्च स्तरीय जांच में दोषी पाए जाने वालों को सजा देने की मांग।