15 February 2019



राष्ट्रीय
संगीत संध्या से पूर्व घाटी में ताबड़तोड़ आतंकी हमले
07-09-2013
प्रख्यात संगीतकार जुबिन मेहता की संगीत संध्या एहसास-ए-कश्मीर से ठीक पहले आतंकियों ने कश्मीर की फिजा में खलल डालने का प्रयास किया। आतंकियों ने पहले दक्षिण कश्मीर के शोपियां में सीआरपीएफ जवानों पर फायरिंग की। जवाबी कार्रवाई में तीन आतंकी मारे गए। इसके बाद भड़की हिंसा पर काबू पाने के लिए पुलिस को भी गोली चलानी पड़ी, जिसमें एक युवक की मौत हो गई।

हालात को देखते हुए प्रशासन ने शोपियां में क‌र्फ्यू लगा दिया। शोपियां की घटना से हताश आतंकियों ने पुलवामा में सुरक्षाबलों के गश्तीदल पर ग्रेनेड हमला किया। इसमें सात सुरक्षाकर्मियों समेत दस लोग घायल हो गए। अलगाववादियों और आतंकी संगठन लश्कर ए तैयबा ने संगीत संध्या का विरोध करते हुए पहले ही हमले की धमकी दी थी।

जुबिन मेहता की संगीत संध्या से पांच घंटे पहले दोपहर करीब 12.45 बजे शोपियां के गागरन इलाके में मोटर साइकिल सवार तीन आतंकियों ने सीआरपीएफ की 14वीं वाहिनी के बंकर के पास खड़े जवानों पर गोलीबारी कर भागने का प्रयास किया। जवानों ने खुद को बचाते हुए जवाबी फायर किया, जिसमें तीनों आतंकी मारे गए। मारे गए आतंकियों में से दो की पहचान तौसीफ अहमद और आदिल के रूप में हुई है। तीसरे की पहचान नहीं हो पाई है। आतंकियों के पास से पिस्तौल और ग्रेनेड भी मिले हैं।

जैसे ही इस घटना की खबर फैली पूरे शोपियां में लोग सड़कों पर उतर आए और देश विरोधी प्रदर्शन शुरू हो गए। प्रदर्शनकारियों ने मारे गए आतंकियों को स्थानीय युवक बताते हुए सुरक्षाबलों के शिविरों और पुलिस थाने पर भी पथराव शुरू कर दिया। स्थिति पर काबू पाने के लिए पुलिस को गोली चलानी पड़ी, जिसमें दो लोग जख्मी हो गए। दोनों को उपचार के लिए श्रीनगर लाया गया, लेकिन मुदस्सर नामक युवक की रास्ते में ही मौत हो गई।

इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने जिला उपायुक्त शोपियां के कार्यालय व थाने पर भी पथराव करते हुए उसे आग लगाने का प्रयास किया, लेकिन पुलिसकर्मियों ने उन्हें खदेड़ दिया। प्रशासन ने स्थिति पर काबू पाने के लिए शोपियां में क‌र्फ्यू का एलान कर दिया, लेकिन देर शाम तक हिंसक झड़पें जारी रहीं। इस बीच, हुर्रियत कांफ्रेंस के दोनों धड़ों, जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट समेत कई संगठनों ने आठ सितंबर को शोपियां में चार युवकों की मौत के खिलाफ बंद का आह्वान किया है।

पुलवामा में हमलाशोपियां में तीन आतंकियों के मारे जाने से हताश आतंकियों ने तीन घंटे बाद शाम करीब चार बजे पुलवामा में हमला कर दिया। सूत्रों के अनुसार, सीआरपीएफ और पुलिस का एक गश्तीदल मुरन चौक के पास से गुजर रहा था, तभी आतंकियों ने उस पर ग्रेनेड फेंका। इसमें पांच पुलिसकर्मी, दो सीआरपीएफ जवान और तीन नागरिक घायल हो गए। सभी घायलों को उपचार के लिए जिला अस्पताल पुलवामा में भर्ती करवाया गया।

श्रीनगर में भी फायरिंगशाम के समय श्रीनगर के लाल चौक इलाके में सड़कों पर आई हिंसक भीड़ को नियंत्रित करने के लिए सीआरपीएफ को फायरिंग करनी पड़ी। घटना में एक व्यक्ति के घायल होने की खबर है। भीड़ भारत विरोधी नारेबाजी करते हुए सुरक्षा बलों पर पथराव कर रही थी।