19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
मालदीव में भारत समर्थक नशीद का राष्ट्रपति चुना जाना तय
08-09-2013

माले। मालदीव में भारत समर्थक मुहम्मद नशीद का राष्ट्रपति चुना जाना तय है लेकिन अभी उन्हें चुनाव के एक और दौर से गुजरना होगा। पहले दौर के चुनाव में नशीद को 45 प्रतिशत ही मत मिले हैं जो बहुमत से कम है। अभी कुछ जगहों के मतपत्र नहीं मिले हैं। इनकी गणना के बाद भी अगर अंतिम नतीजों पर असर नहीं पड़ा तो 28 सितंबर को दूसरे दौर में दो शीर्ष उम्मीदवारों के बीच चुनाव का दूसरा चरण होगा। निर्वाचन आयोग ने रात भर चली मतगणना के बाद रविवार सुबह चुनाव परिणाम घोषित किए। मुहम्मद नशीद को 95,224 मतों के साथ पहले चरण का विजेता घोषित किया गया। नशीद के बाद पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल गयूम के भाई अब्दुल्ला यमीन ने अपनी जगह बनाई है। उन्हें 25.35 प्रतिशत यानी 53,099 मत मिले हैं। अन्य प्रत्याशियों में गासिम इब्राहिम को 24.07 प्रतिशत यानी 50,422 मत मिले। चुनावों में 88 प्रतिशत से अधिक मतदान हुआ था। निर्वाचन आयोग के अध्यक्ष फवाद तौफीक ने कहा कि यह प्रारंभिक नतीजे हैं। दो दिनों में कई अन्य द्वीपों से मतपत्र मिल जाएंगे। आगामी 14 सितंबर तक इनकी गणना कर नतीजों को सुधार लिया जाएगा और जल्द ही अंतिम परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे। लेकिन इन सुधारों का नतीजों पर बड़ा प्रभाव पड़ने की उम्मीद कम है। देश के चुनाव कानूनों के तहत अगर किसी भी उम्मीदवार को पचास प्रतिशत से अधिक मत नहीं मिलते हैं तो शीर्ष दो उम्मीदवारों के बीच दूसरे चरण का मतदान कराया जाता है। अगर अंतिम नतीजों से भी कोई बदलाव नहीं आता है तो नशीद का आगामी 28 सितंबर को दूसरे चरण के चुनाव में अब्दुल्ला यमीन से मुकाबला होगा। मुहम्मद अब्दुल गयूम के तीन दशक के लंबे शासन के बाद वर्ष 2008 में मालदीव में पहली बार बहुदलीय स्वतंत्र चुनाव हुए थे, जिसमें नशीद को विजय मिली। लेकिन एक न्यायाधीश की गिरफ्तारी के मामले में नशीद को चार साल में ही इस्तीफा देना पड़ा। नशीद के हटने के बाद तत्कालीन उप राष्ट्रपति मुहम्मद वहीद राष्ट्रपति बने थे। मालदीव के लिए भारत सबसे अहम: नशीद माले। मालदीव में दूसरे राष्ट्रपति चुनाव का पहला दौर जीतने के बाद मुहम्मद नशीद ने कहा कि भारत हमारे लिए इकलौता सबसे महत्वपूर्ण देश है। मालदीव और भारत की जनता एक-दूसरे को बहुत प्यार करती है। नशीद ने रविवार को यहां चीन के एक पत्रकार के सवाल पर कहा, भारत हमारा पड़ोसी है। वह हमारे लिए सबसे अहम है। हम एक जैसे ही हैं। हमारा संगीत, किताबें, खाना और भावनाएं एक समान हैं। दोनों देशों ने हमेशा एक-दूसरे का साथ दिया है। इसलिए मैं भारत को अपनी पहली प्राथमिकता पर रखता हूं। चीन से संबंधों के सवाल पर नशीद ने कहा, हमारे बीजिंग से बहुतच्अच्छे संबंध हैं। विपक्षी दल संकुचित और जातीय विचारों की राजनीति कर रहे हैं। हम इन विचारों को कतई आगे नहीं बढ़ने देंगे।