19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
पेट्रोल कार से तेज भागेगी इलेक्ट्रिक कार
17-09-2013

वाशिंगटन। अब इलेक्ट्रिक कारें पेट्रोल चालित कारों से भी तेजी से रफ्तार पकड़ लेंगी। इलेक्ट्रिक कारें मात्र चार सेकेंड से भी कम समय में 0 से 60 मील प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ लेंगी। ये क्षमता अभी तक पेट्रोल से चलने वाली गाड़ियों में भी नहीं पाई जाती है। गैस की बचत और बिल्कुल प्रदूषण मुक्त होने के कारण अब इलेक्ट्रिक कारें गैस से चलने वाली कारों को भी पीछे छोड़ने वाली हैं।

अमेरिकन कैमिकल सोसायटी [एसीएस] की 246 अग्रणी वैज्ञानिकों की राष्ट्रीय बैठक में इलेक्ट्रिक वाहन अग्रणी जॉन ई. वाटर्स ने बताया कि रफ्तार के मामले में इलेक्ट्रिक कारें पेट्रोल से चलने वाली पोर्श और बीएमडब्लू जैसी उच्च क्षमता वाली कारों की खूबियां हासिल कर चुकी हैं। इसके अलावा गैस से चलने वाली दुनिया की सबसे बेहतरीन कारें भी रफ्तार में इलेक्ट्रिक कारों से मात खाने लगी हैं।

लिथियम आयन बैटरी के इंजीनियरिंग और उपयोग में अपेक्षाकृत हाल के अग्रिमों बिजली के वाहनों में ईवीएस उत्पादन कर रहे जॉन ई. वाटर्स ने बताया कि ये पारंपरिक आंतरिक दहन इंजन कारों को दौड़ में धूल चटाने में सक्षम है। प्रायोगिक बिजली कारों ने पहले से ही 180 मील की निरंतर गति का मानक बना लिया है और 300 मील प्रति घंटे की रफ्तार का रिकार्ड बना चुकी हैं। इलेक्ट्रिक कारों के पेट्रोल चालित वाहनों से अधिक दक्षता है। ऊर्जा भंडारण में भी ये सामान्य कारों से 90 प्रतिशत बेहतर हैं। आंतरिक दहन इंजन के मुकाबले इनसे कम से कम 35 प्रतिशत का अधिक लाभ है। इसलिए भविष्य में बैटरी चालित कारें लोगों की पहली पसंद बन जाएंगी। वाटर्स ने कहा कि अकेले अमेरिका में एक अनुमान के अनुसार 90 लाख मोटर स्पोर्ट प्रशंसकों को कार रेस में इलेक्ट्रिक कारों से अधिक रोमांच हुआ है। धीमे ईवी प्रदर्शन के मिथकों को तोड़ते हुए इलेक्ट्रिक कारें लुभावनी गति प्राप्त कर रही हैं। वे आंतरिक दहन इंजन की तुलना में अधिक कुशलता से ऊर्जा का उपयोग करती हैं।