19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
भारतीय पुलिस की 'घुसपैठ' से नेपाल में गुस्से की लहर
19-09-2013

काठमांडू। भारतीय पुलिस के पिछले सप्ताह नेपाली सीमा में घुसने और एक घर में छापामारी की घटना ने यहां की राजनीतिक पार्टियों, सरकारी अधिकारियों और आम लोगों को नाराज कर दिया है। मीडिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। समाचार संवाद एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक, गत बुधवार उत्तर प्रदेश पुलिस के सशस्त्र दल ने दक्षिण पश्चिम नेपाल के बरदिया जिले के गुलारिया स्थित मंजु प्रसाद श्रेष्ठ के घर पर छापेमारी की। पुलिस ने बताया कि वह किसी आतंकी की तलाश कर रही हैं। नेपाल पुलिस के प्रवक्ता नवराज सिलवल ने कहा कि बिना पूर्व सूचना के नेपाली जमीन पर आकर किसी घर में छापेमारी करना अंतरराष्ट्रीय कानून के खिलाफ है। भारत के पास ऐसा करने का अधिकार नहीं है। इस विषय पर अधिकारियों के साथ उच्चस्तरीय बातचीत जारी है। राजनीतिक पार्टियों ने इसे नेपाल की संप्रभुता पर हमला करार देते हुए कहा कि यह अपनी तरह का पहला मामला नहीं है। भारत और नेपाल की सीमा 1,868 किलोमीटर लंबी है। भारतीय पुलिस अपराधिक गतिविधियों पर अंकुश लगाने के नाम पर बिना पूर्व सूचना के नेपाली क्षेत्र में दाखिल होती रही है। नेपाल पुलिस या सरकारी संस्थानों को किसी तरह की भी पूर्व सूचना नहीं दी जाती है। कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल-माओवादी [सीपीएन-एम] ने अपने बयान में कहा कि हम भारत सरकार से मांग करते हैं कि वह इस घटना पर सार्वजनिक रूप से माफी मांगे। साथ ही आश्वासन दे कि घुसपैठ की घटना दोबारा नहीं होगी।