21 February 2019



मनोरंजन
श्रद्धा कपूर हुई अल्ट्रा चूजी
25-09-2013

मुंबई। आशिकी 2\' सफल क्या हुई, श्रद्धा कपूर अल्ट्रा चूजी हो गई हैं। धड़ाधड़ फिल्में साइन करने की बजाय वे फिल्में छोड़ रही हैं। वह भी कथित बड़े बैनर की। पहले उन्होंने \'वेलकम बैक\' को मना किया। पता नहीं क्यों, लेकिन अब खबर है कि उन्होंने अभिषेक बच्चन अभिनीत फिल्म को मना कर दिया है। इतना ही नहीं, \'ओह माय गॉड\' फेम उमेश शुक्ला की अगली फिल्म भी उन्होंने मना कर दी है। अभिषेक के आलोचक उन पर चुटकी लेते हैं। वे कहते हैं, अभिषेक को जाग जाना चाहिए। बीते साल \'प्लेयर्स\' के बाद से उन्होंने एक भी फिल्म नहीं की है। \'धूम\' की फ्रेंचाइजी की सफलता का क्रेडिट सिर्फ उन्हें नहीं दिया जा सकता, क्योंकि उसमें तो उदय चोपड़ा भी अच्छी एक्टिंग कर ले जाते हैं। उन फिल्मों की सफलता का श्रेय तो उनके विलेन जॉन अब्राहम, रितिक रोशन और अब यकीनन आमिर खान ले उड़ेंगे। वैसे श्रद्धा के बारे में जानकारों का मानना है कि उनके चेहरे पर एक मासूमियत है। कंगना रनोट के बाद इंडस्ट्री को एक और ट्रैजेडी क्वीन मिली है, पर वैसी सफलता हासिल करने के लिए उन्हें अपने रवैये में बदलाव लाना होगा। अगर वे ऐसा नहीं करती हैं, तो उन्हें इसका अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहना होगा।

मुझे अफेयर करना

चाहिए : शरमन

शरमन जोशी मंजे हुए कलाकार हैं। उनकी शादी को 12 साल बीत चुके हैं। वे कहते हैं, \'इंडस्ट्री में बेकार की बातों में उलझने के कई संसाधन मौजूद हैं, लेकिन मैंने शादी को लेकर कभी असुरक्षा महसूस नहीं की। खूबसूरत औरतों का मुझ पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता, क्योंकि यहां उनकी भरमार है। मैं केवल अपने काम पर ध्यान देता हूं, क्योंकि मैं इस पर किसी चीज का प्रभाव नहीं पड़ने देना चाहता, इसलिए किसी अभिनेत्री के साथ मुझे जोड़कर अब तक अफवाहें नहीं उड़ाई गई हैं, लेकिन अब मुझे लगने लगा है कि मुझे एक अफेयर करना चाहिए। आखिर बीस वर्ष हो चुके हैं, इसलिए मुझे विश्वास है कि मेरी पत्नी इससे निपट सकती है। या मुझे एक प्रचारक के माध्यम से नकली अफेयर करना चाहिए। शरमन आगे कहते हैं कि प्रेरणा उन पर इतना विश्वास करती हैं कि उन्हें उनके स्क्रीन पर कपड़े उतारने या किसी से आलिंगन करने से कोई फर्क नहीं पड़ता। यदि ऐसे सीन भी कलात्मक ढंग से पेश किए जाएं, तो वे फिल्म में ानसनीखेज नहीं लगते हैं, लेकिन कहानी के अनुरूप बन जाते हैं। प्रेरणा यह बात अच्छी तरह से समझती हैं। यदि भूमिका की मांग हो, तो मैं न्यूड होने को भी तैयार हूं। यदि हम भावनात्मक रूप से खुद को न्यूड कर सकते हैं, तो हम शारीरिक रूप से क्यों नहीं कर सकते? वैसे बात तो आप सही कर रहे हैं शरमन।