24 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
दो पायलटों ने कॉकपिट में सोने की बात स्वीकारी
26-09-2013

लंदन। विमान उड़ता रहे और पायलट सो जाए तो क्या होगा? इस बात की कल्पना करके रोंगटे खडे़ हो जाएंगे, लेकिन ब्रिटिश एयरलाइन के एक विमान के दो पायलटों ने कॉकपिट में सोने की बात स्वीकार की है। उस समय एयरबस ए 330 में 325 यात्री सवार थे और यह ऑटो पायलट मोड में बिना निगरानी के ही उड़ता रहा। यह घटना 13 अगस्त की है। दोनों पायलट कथित रूप से लंबी उड़ान के दौरान एक-एक कर सोने और विमान को ऑटो पायलट मोड में रखने पर सहमत हो गए थे। द इंडिपेंडेंट अखबार की रिपोर्ट में कहा गया है कि जब एक पायलट जगा तो उसे पता चला कि कुछ देर तक दोनों पायलट सो गए थे, लेकिन उसे यह पता नहीं चला कि कितनी देर तक विमान बिना निगरानी के उड़ता रहा। दोनों पायलटों ने स्वेच्छा से घटना की जानकारी ब्रिटेन के सिविल एविएशन अथॉरिटी को दी। कानून के मुताबिक एयरलाइन को संभावित खतरनाक व्यवहार के बारे में नियामक को जानकारी देनी होती है। सीएए ने एयरलाइन के बारे में जानकारी नहीं देने का फैसला किया है। उसका कहना है कि पायलट बहुत थके हुए थे। सीएए के प्रवक्ता ने कहा कि यदि पायलटों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाती है तो उन्हें बहुत हैरानी होगी। यह सुनिश्चत करने का प्रयास किया जाएगा कि भविष्य में इस प्रकार की घटना न हो।