18 February 2019



खेलकूद
धौनी ही नहीं, ये भारतीय क्रिकेटर भी खेल चुके हैं धमाकेदार पारी
27-09-2013
चैंपियंस लीग टी20 मुकाबले में घरेलू मैदान (रांची के जेएससीए स्टेडियम ) पर सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ महेंद्र सिंह धौनी ने अपना सबसे तेज अर्धशतक (नाबाद 63 रन, 19 गेंद, 1 चौका और 8 छक्का ) लगाकर अपनी टीम चेन्नई सुपरकिंग्स को न सिर्फ जीत दिलाई बल्कि अपने रणनीतिक कौशल से क्रिकेट पंडितों को अचंभित किया है। धौनी पहले भारतीय क्रिकेटर नहीं है जिन्होंने तूफानी अंदाज में अपना अर्धशतक पूरा किया। आइए हम आपको उन भारतीय क्रिकेटरों के बारे में बताते हैं जिन्होंने भारतीय टीम की ओर से खेलते हुए तूफानी अंदाज में अर्धशतक लगाकर टीम को जीत दिलाई।

अजीत अगारकर: भारतीय टीम की ओर से 14 दिसंबर 2000 को जिंबॉब्वे के खिलाफ पांचवें वनडे मुकाबले में अजीत अगारकर ने आठवें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए 25 गेंदों में 67 रनों नाबाद पारी खेली। इस पारी में उन्होंने 7 शानदार चौके और 4 गगनचुंबी छक्के लगाए थे। इसी की बदौलत भारतीय टीम 50 ओवर में 301 रन बनाए थे और जिंबाब्वे को 39 रन से शिकस्त दी थी। इस मैच में अगारकर ने तीन विकेट भी झटके थे। उनके इस हरफनमौला प्रदर्शन की बदौलत उन्हें मैन ऑफ मैच का पुरस्कार मिला था।

कपिल देव: भारतीय टीम की ओर से 29 मार्च 1983 को वेस्टइंडीज के खिलाफ खेलते हुए कपिल देव ने 72 रनों की पारी खेली थी। इसके लिए उन्होंने 38 गेंदों का सामना करते हुए सात चौके और तीन छक्के लगाए थे। इसकी बदौलत भारतीय टीम ने 47 ओवर में पंच विकेट के नुकसान पर 282 रन बनाए थे। वहीं जीत के लिए 283 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी वेस्टइंडीज की टीम 47 ओवर में दो विकेट के नुकसान पर 255 रन बनाकर आउट हो गई थी और भारत ने यह मैच 27 रन से जीत लिया था। इस मैच में कपिल देव ने 10 ओवर में 33 रन देकर दो विकेट भी चटकाए थे। कपिल के हरफनमौला प्रदर्शन की बदौलत उन्हें मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार मिला था।

राहुल द्रविड़: भारतीय टीम की ओर से 15 नवंबर 2003 को न्यूजीलैंड के खिलाफ 9वें वनडे मुकाबले में राहुल द्रविड़ ने 22 गेंद में शानदार 50 रनों की नाबाद पारी खेली। इस पारी में उन्होंने पांच चौके और तीन गगनचुंबी छक्के लगाए थे। द्रविड़ की इस तूफानी बल्लेबाजी के कारण भारत ने न्यूजीलैंड को निर्धारित पचास ओवर में 353 रन का पहाड़ सरीखा स्कोर खड़ा किया था। लेकिन न्यूजीलैंड की टीम लक्ष्य का पीछा करते हुए 208 रन ही बना सकी और भारत ने यह मैच 145 रन से जीत लिया।

युवराज सिंह: भारतीय टीम की ओर से 27 दिसंबर 2004 को बंग्लादेश के खिलाफ तीसरे वनडे मुकाबले में 32 गेंद में शानदार 69 रन की पारी खेली थी । इस पारी में उन्होंने 8 चौके और 3 छक्के लगाए थे। इसकी बदौलत भारतीय टीम ने बांग्लादेश के खिलाफ निर्धारित पचास ओवर में 348 रन का स्कोर बनाया था। वहीं लक्ष्य का पीछा करने उतरी बांग्लादेश की टीम 50 ओवर में 257 रन ही बना सकी थी और भारतीय टीम ने यह मैच 91 रन से जीत लिया था।