22 February 2019



राष्ट्रीय
तंजानिया की लड़की की पिटाई की घटना बेहद ही शर्मनाक - सुषमा स्वराज
04-02-2016
नई दिल्ली। तंजानिया की लड़की की पिटाई के मामले में पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार किया है।कर्नाटक के सीएम सिद्धरमैया ने कहा कि इस मामले के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ जांच की जा रही है। जो लोग भी इस मामले में दोषी पाए जायेंगे उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। कर्नाटक सरकार ने इस केस में अब तक हुई प्रगति के बारे में विदेश मंत्रालय को जानकारी दे दी गयी है। कर्नाटक पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने आज घटनास्थल का दौरा किया और केस के मामले में जानकारी हासिल की। भारत में तंजानिया के हाईकमिश्नर जॉन किजाजी ने पुलिस से सख्त कार्रवाई करने की मांग की। उन्होंने कहा कि वो भारत सरकार से इस मुद्दे पर लगातार संपर्क में हैं। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कर्नाटक के सीएम सिद्धरमैया से तत्काल रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिये हैं। भाजपा ने राहुल गांधी के इस कदम पर तंज कसा। संसदीय कार्य राज्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी हर मुद्दे पर देश को ज्ञान देते हैं। लेकिन वो इस मामले में चुप्पी साधे हुए हैं। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा है कि ये घटना बेहद ही शर्मनाक है। दोषियों के खिलाफ उन्होंने कड़ी कार्रवाई की मांग की । एक सुडानी कार चालक के एक महिला को सड़क पर कुचलने के बाद 200 से 300 लोगों की भीड़ ने तंजानिया की एक 21 वर्षीय लड़की को उसकी कार से खींचकर बुरी तरह पीटा और उसके कपड़े फाड़ दिए और उसकी कार को आग के हवाले कर दिया। उग्र भीड़ ने उसे बार-बार पीटते हुए उसके कपड़े फाड़कर नग्नावस्था में उसकी परेड करवाई। बुरी तरह से जख्मी लड़की ने जब भीड़ से बचने के लिए वहां से गुजरती बीएमसीटी की एक बस में चढ़ने की कोशिश की तो बस यात्रियों ने भी उसे धकेल कर वापस हिंसक भीड़ के हवाले कर दिया। यह वीभत्स घटना पुलिस मूकदर्शक बनी देखती रही। अफ्रीकी देश तंजानिया की पीडि़त लड़की बेंगलुरु के आचार्य कालेज में बीबीए द्वितीय वर्ष की छात्रा है। हादसे के बाद बदकिस्मती से वहां अपने तीन दोस्तों के साथ आइटी-10 कार में पहुंची। तंजानिया की 21 वर्षीय युवती की कार को रोक कर पहले तो भीड़ ने उसे उसकी एक महिला और दो पुरुष मित्रों को बाहर घसीट लिया और फिर उसकी कार को आग लगा दी। उग्र भीड़ लड़की को मारते हुए उसके कपड़े तार-तार करती रही और वहां मौजूद सैकड़ों लोग तमाशा देखते रहे। लड़की को नग्न कर जब उसकी परेड कराई गई तो वहां मौजूद एक व्यक्ति ने अपनी टी-शर्ट देकर उसे अपना शरीर ढंकने में मदद करनी चाही। तब भीड़ ने उस व्यक्ति को भी खूब मारा। हिंसक भीड़ ने लड़की के तीनों दोस्तों को भी जमकर पीटा। बेंगलुरु में ऑल अफ्रीकन स्टूडेंट्स यूनियन के कानूनी सलाहकार बास्को कावीसी के अनुसार बात इतने पर भी नहीं थमी बुरी तरह से जल चुकी कार में अपने जरूरी दस्तावेज, एटीएम कार्ड और नकद गंवा चुकी इस लड़की समेत चार लोग जब अस्पताल पहुंचे तो उन्हें अस्पताल से भी बाहर कर दिया गया। उनका कहना है कि तंजानिया की लड़की का सुडान के लड़के से या उस घटना से कोई लेना-देना नहीं था। लेकिन इस वारदात के बाद भी पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रही। संपर्क करने पर इसकी रिपोर्ट तक नहीं लिखी। इस शर्मनाक घटना से नाराज अफ्रीकी समुदाय के लोगों ने न्याय मिलने की मांग की है। अफ्रीकी दूतावास भी ऐसी घटना से स्तब्ध हैं। वहीं, पुलिस कमिश्नर एनएस मेघारिख ने कहा कि सड़क हादसे में 35 वर्षीय स्थानीय महिला की जान गई।उसके बाद कार ड्राइवर पर हमला किया और उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया। लेकिन उसके बाद घटनास्थल पर तंजानिया की महिला और उसके साथी पहुंच गए। तब भीड़ ने उसे हादसे का जिम्मेदार समझकर मारा। उनका कहना है कि पीडि़ता का बयान लेकर उसके पर हमले और छेड़खानी का केस दर्ज किया गया है। उन्होंने कहा कि पुलिस भीड़ में शामिल लोगों को पहचानने की कोशिश कर रही है।