21 February 2019



खेलकूद
ऑस्ट्रेलिया के क्लीन स्वीप से चयनकर्ताओं का काम आसान
05-02-2016
नई दिल्ली। टी-20 विश्व कप और एशिया कप के लिए चयनकर्ता जब शुक्रवार को टीम इंडिया का चयन करेंगे तो उनके सामने एकमात्र समस्या अजिंक्य रहाणे और मनीष पांडे में से किसी एक को चुनने को लेकर होने की उम्मीद है। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ क्लीन स्वीप की वजह से चयनकर्ताओं का काम बहुत आसान हो गया है। ऑस्ट्रेलिया में जोरदार प्रदर्शन के दौरान जहां अधिकांश खिलाड़ियों ने अपनी जगह पक्की करवा ली, वहीं चयनकर्ता सातवें क्रम के विशेषज्ञ बल्लेबाज के लिए एक खिलाड़ी चुनना चाहेंगे। विराट कोहली को श्रीलंका के खिलाफ सीरीज के लिए आराम दिया गया है और मनीष पांडे को अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिलेगा, लेकिन जब कोहली एशिया कप के लिए टीम के साथ जुड़ेंगे तो श्रीलंका के खिलाफ सीरीज में से एक खिलाड़ी को बाहर होना पड़ेगा। चूंकि टी-20 विश्व कप के लिए टीम शुक्रवार को चुनी जाएगी इसलिए पांडे को श्रीलंका के खिलाफ खेलते हुए देखने से पहले बाहर करना उचित नहीं होगा। रोहित शर्मा, शिखर धवन, विराट कोहली, सुरेश रैना, युवराज सिंह और महेंद्र सिंह धौनी का चुना जाना तय है। इसके चलते सातवें क्रम के लिए अजिंक्य रहाणे और मनीष पांडे में से किसी एक का चयन किया जाएगा। वैसे रहाणे की काबिलियत पर किसी को शक नहीं है, लेकिन धौनी ने रहाणे की सीमित ओवरों के प्रारूप में सिंगल-डबल लेने की क्षमता पर पहले सवाल उठाए थे। वे ऑस्ट्रेलिया में तीनों टी-20 मैचों में नहीं खेले थे, जिससे लगता है कि वे टीम प्रबंधन की योजना में शामिल नहीं हैं। धौनी ने अंतिम टी-20 मैच में धमाकेदार प्रदर्शन से अपनी जगह पक्की करवा ली है वैसे इरफान पठान के नाम पर भी विचार किया जा सकता है। इरफान ने मुश्ताक अली टी-20 टूर्नामेंट में बड़ौदा को फाइनल में पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई थी। उन्हें चोटों से जूझने वाले आशीष नेहरा के कवर के रूप में शामिल किया जा सकता है। वैसे उन्हें श्रीलंका के खिलाफ सीरीज के लिए नहीं चुना जाना उनके अवसरों को कम करता है। हार्दिक पांड्या ने अपने प्रदर्शन से सभी को प्रभावित किया था। पवन नेगी को रवींद्र जडेजा के कवर के रूप में देखा जा रहा है। नेगी आठवें-नौवें क्रम पर उतरकर लंबे छक्के लगा सकते हैं हरभजन सिंह को उसी स्थिति में प्लेइंग इलेवन में मौका मिलेगा जब अश्विन असफल होंगे। भुवनेश्वर कुमार चोट से उबर चुके हैं और उनका अनुभव टीम के काम आ सकता है। जसप्रीत बुमराह ने ऑस्ट्रेलिया में अपनी दमदार गेंदबाजी के बल पर अपना चयन पक्का करवा लिया है।