18 February 2019



खेलकूद
करियर का पहला एफ-1 खिताब रोजबर्ग ने जीता
16-04-2012

शंघाई। मर्सिडीज के ड्राइवर निको रोजबर्ग ने रविवार को हुई चाइना ग्रां. प्रि. फॉर्मूला-1 रेस में पहली बार पोल पोजीशन से शुरुआत करते हुए अपने करियर का पहला एफ-1 खिताब जीता। जर्मन ड्राइवर ने करियर की 111वीं रेस में एक घंटे, 36 मिनट, 26 सेकंड का समय निकालते हुए 20 चालकों में पहला स्थान हासिल किया। मर्सिडीज टीम के किसी ड्राइवर ने इससे पहले 1995 में इटेलियन ग्रां. प्रि. में खिताब जीता था। मैकलारेन के ड्राइवर जेंसन बटन रोजबर्ग से 20.6 सेकंड पीछे दूसरे और लुइस हैमिल्टन 26 सेकंड पीछे तीसरे स्थान पर रहे। रेड बुल टीम के ड्राइवर मार्क वेबर को चौथे स्थान से संतोष करना पड़ा। वहीं, टीम के दूसरे ड्राइवर विश्व चैंपियन सेबेस्टियन विटेल को पांचवां स्थान मिला। सात बार के चैंपियन मर्सिडीज के ड्राइवर माइकल शूमाकर रेस पूरी नहीं कर सके। शूमाकर को 12वें लैप के बाद ही रेस से हटना पड़ा। फोर्स इंडिया अंक से चूकी : सहारा फोर्स इंडिया इस सत्र में पहली बार अंक हासिल करने से चूक गई। टीम के ड्राइवर पॉल डि रेस्टा 12वें और निको हुल्केनबर्ग 15वें स्थान पर रहे। दोनों ड्राइवरों को बहुत मुश्किल आई, क्योंकि ग्रिड पर उनका स्थान अच्छा नहीं था। रेस्टा ने हुल्केनबर्ग से एक स्थान आगे 15वें स्थान से शुरुआत की, लेकिन वे अंक नहीं जुटा सके। फोर्स इंडिया ने ऑस्ट्रेलियाई ग्रां. प्रि. में एक और मलेशियाई ग्रां. प्रि. में आठ अंक हासिल किए थे। हिस्पेनिया टीम के चालक भारत के नरेन कार्तिकेयन ने एक बार फिर निराश किया। वह 24 चालकों के बीच 22वें स्थान पर रहे।