18 February 2019



खेलकूद
कैसे करें सचिन को आउट? बस 45 मिनट में सीख गया कंगारू
07-02-2012
पर्थ. मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर रविवार को हुए सीबी सीरीज के पहले एकदिवसीय मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज मिचेल स्टार्क ने अपना जलवा बिखेरा था। दिग्गज तेज गेंदबाज ब्रेट ली के चोटिल होने के कारण एकादश में स्थान पाने में सफल हुए स्टार्क ने अपनी स्विंग गेंदबाजी से सभी को प्रभावित किया। स्टार्क की गेंदबाजी में आए इस अविश्वसनीय सुधार के पीछे पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर वसीम अकरम का बहुत बड़ा हाथ है।

अकरम ने भारत के खिलाफ टेस्ट सीरीज के दौरान स्टार्क को गेंदबाजी एक्शन पर सलाह दी थी। अकरम ने उन्हें बताया था कि वो अपनी कलाई के इस्तेमाल से गेंद को हवा में स्विंग करवा सकते हैं। इस तरीके से बल्लेबाज को आसानी से छकाया जा सकता है।

स्टार्क ने इस छोटी सी सलाह का बखूबी इस्तेमाल किया। स्टार्क ने मेलबर्न में हुए वनडे में बेहतरीन गेंदबाजी करते हुए महज 33 रन देकर 2 विकेट धराशायी किए थे। स्टार्क ने मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर और सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर को सस्ते में आउट कर टीम को बेहतरीन आगाज दिया था।

क्या थी सलाह?

अकरम ने स्टार्क को अपनी कलाई पर ध्यान देने को कहा था। अकरम ने बताया था कि यदि स्टार्क कलाई को झटका देते हुए गेंद को फेंकेंगे तो इससे उन्हें ज्यादा स्विंग मिलेगी।

अकरम ने स्टार्क की गेंदबाजी पर कहा, "मैंने स्टार्क की गेंदबाजी देखी है। वो दाएं हाथ के बल्लेबाज के खिलाफ बेहतरीन इन स्विंगर डालते हैं। उनकी गेंद में रफ्तार है और वो पूरी तरह फिट हैं। मैंने उन्हें कलाई की स्थिति और स्विंग पर ध्यान केंद्रित करने को कहा। मैंने बताया कि यदि वो गेंद डालने से ठीक पहले अपनी कलाई को झटका देंगे तो इससे उन्हें स्विंग ज्यादा मिलेगी। हमारे बीच इसे लेकर लगभग 45 मिनट तक बातचीत हुई।"

क्या हुआ असर?

अकरम ने स्टार्क को सिडनी में गेंदबाजी एक्शन पर सलाह दी थी। इसके बाद से स्टार्क ने 13.42 की औसत से 14 विकेट झटके हैं।

स्टार्क क्रिकेट के सभी प्रारूपों में सचिन तेंडुलकर का कीमती विकेट दो बार ले चुके हैं।