19 February 2019



खेलकूद
पंजाब ने मुंबई इंडियंस को हराया
23-04-2012

मुंबई। शान मार्श [नाबाद 68] की धमाकेदार पारी के आगे जेम्स फ्रैंकलिन [79] की जोरदार अर्धशतकीय पारी काम न आई और पंजाब किंग्स इलेवन ने आईपीएल-पांच के 28वें मुकाबले में मुंबई इंडियंस को तीन गेंदें शेष रहते छह विकेट से हरा दिया। वानखेडे स्टेडियम में खेले गए मुकाबले में फ्रैंकलिन की सचिन तेंदुलकर [23] के साथ 51 रनों और दिनेश कार्तिक [35 रन, 20 गेंद] के साथ निभाए 75 रनों की अर्धशतकीय साझेदारी के दम पर मुंबई ने 20 ओवर में छह विकेट पर 163 रन बनाए। फ्रैंकलिन ने अपनी पारी में 51 गेंदों पर छह चौका व चार छक्का जमाया। जवाब में पंजाब 19.3 ओवर में चार विकेट खोकर 164 रन बनाए। मार्श ने 40 गेंदों में पांच चौका व तीन छक्का लगाकर मैच जीताऊ पारी खेली। मुंबई की छह मैचों से यह तीसरी हार है और वह अंक तालिका में छठवें स्थान पर है जबकि सात मैचों तीसरी जीत दर्ज कर पंजाब सातवें पायदान पर आ गया है। इस मैच से मास्टर ब्लास्टर तेंदुलकर ने आईपीएल में वापसी की। टूर्नामेंट के चेन्नई सुपर किंगस के खिलाफ शुरुआती मुकाबले में उनकी अंगुली में चोट लग जाने के बाद लगातार चार मैचों में नहीं खेल सके थे। वहीं पंजाब के कप्तान एडम गिलक्रिस्ट पैर में नस खींच जाने के कारण इस मैच में खेलने नहीं उतरे और उनके स्थान पर टीम की अगुवाई डेविड हसी ने की। चुनौतीपूर्ण लक्ष्य के जवाब में पंजाब की नई सलामी जोड़ी नितिन सैनी और मंदीप सिंह ने जोरदार शुरुआत दिलाई। मंदीप ने पहले ओवर में ही मुनफ पटेल की गेंद पर दो चौका लगाया। दोनों बल्लेबाज छह ओवर तक क्रीज पर डटे रहे और 48 रनों की साझेदारी कर डाली। प्रज्ञान ओझा ने खतरनाक होती इस साझेदारी को सैनी को पगबाधा कर मुुंबई को पहली सफलता दिलाई। सैनी ने 25 गेंदों में पांच चौके से 30 रन बनाए। मंदीप का साथ देने क्रीज पर शान मार्श आए और स्कोर को आगे बढ़ाया। लेकिन बल्ले से असफल रहे कीरोन पोलार्ड ने मंदीप [24] को फ्रैंकलिन के हाथों कैच आउट कराया। मंदीप की जगह लेने वाले कार्यवाहक कप्तान डेविड हसी और मार्श ने 10वें ओवर में तीन चौके मारकर 14 रन बटोरे। इन दोनों आस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों ने टीम की चुनौती कायम रखते हुए तीसरे विकेट के लिए 58 रनों की अर्धशतकीय साझेदारी निभाई। लेकिन पोलार्ड ने आक्रामक बल्लेबाज डेविड हसी [21] को भी अंबाती रायुडू के हाथों कैच आउट कराकर मुंबई को बड़ी सफलता दिलाई। इस बीच मार्श ने चौका जमाकर अपना पचासा पूरा किया। अजहर महमूद [10 रन, 7 गेंद] 18वें ओवर में प्रज्ञान ओझा की गेंद पर छक्का लगाने के बाद अगली गेंद पर कैच आउट हो गया। पंजाब को जीत के लिए अंतिम 12 गेंदों पर 20 रन चाहिए थे और तीन गेंद शेष रहते लक्ष्य हासिल कर लिया। इससे पूर्व पहले बल्लेबाजी करने का फैसला करने के बाद तेंदुलकर ने फ्रैंकलिन के साथ पारी का आगाज किया लेकिन टीम का पहला रन आठवीं गेंद पर बना। तेंदुलकर ने आठवीं गेंद पर एक रन लेकर टीम का खाता खोला। लेकिन टीम तीन ओवर में मात्र 11 रन ही बना सकी। दोनों ही बल्लेबाज शुरू में तेजी से रन नहीं बना सके यही कारण रहा कि मुंबई ने आठ ओवर में 50 रन पूरे किए। नौवें ओवर में पीयूष चावला की पहली गेंद पर तेंदुलकर दो रन लेने के चक्कर में रन आउट हो गए। हालांकि पिछले ओवर में उन्हें परविंदर अवाना ने एक जीवनदान भी दिया था। अवाना ने अगले ओवर में नए बल्लेबाज रोहित शर्मा [2] को विकेटकीपर नितिन सैनी के हाथों कैच आउट कराया। तीन गेंदों में दो विकेट गंवाने के बाद फ्रैंकलिन ने दिनेश कार्तिक के साथ पारी को न सिर्फ आगे बढ़ाया बल्कि रन गति को भी तेज किया। मुंबई के पहले 10 ओवर में महज 58 रन थे। लेकिन इसके बाद दोनों बल्लेबाजों ने तेजी से रन बटोरना शुरू किया। 12वें ओवर में भार्गव भट की गेंद पर फ्रैंकलिन ने लगातार दो छक्के जमाए। इसी ओवर की अंतिम गेंद पर कार्तिक ने चौका जमाए जिससे इस ओवर में कुल 19 रन बने। फ्रैंकलिन ने 14वें ओवर में अपना पचासा पूरा किया। इसके बाद उन्होंने 15वें ओवर में प्रवीण कुमार की गेंद पर दो छक्का व एक चौका जमाया। दोनों ने 12.50 की औसत से छह ओवर में 75 रनों की साझेदारी निभाई। 20 गेंदों पर पांच चौके जमाकर बेहतरीन बल्लेबाजी करने वाले कार्तिक [35] दो रन लेने के चक्कर रन आउट हो गए। फ्रैंकलिन की आतिशी पारी जारी थी लेकिन पिछले मैच में बेंगलूर रॉयल चैलेंजर्स के चार विकेट चटकाने वाले अवाना ने आज भी किफायती गेंदबाजी की और रोहित शर्मा के बाद कीरोन पोलार्ड [7] को भी कैच आउट कराया। अपना पहला ओवर मेडन डालने वाले प्रवीण कुमार ने फ्रैंकलिन को 19वें ओवर में डेविड मिलर के हाथों कैच आउट कराया। इसके बाद प्रवीण ने अगली गेंद पर कप्तान हरभजन सिंह [4] को भी कैच आउट कराकर पवेलियन की राह दिख दी।