16 February 2019



खेलकूद
कुश्ती महासंघ में गीतिका या तोमर को लेकर विवाद
24-04-2012

नई दिल्ली। भारतीय कुश्ती एक बार फिर विवाद के साये में है क्योंकि अभी तक तय नहीं हो सका है कि गीतिका जाखड और अलका तोमर में से भारत की कौन सी महिला पहलवान लंदन ओलंपिक खेलों के लिए मई के पहले सप्ताह फिनलैंड के हेलसिंकी में होने वाले चौथे और अंतिम क्वालीफायर में देश का प्रतिनिधित्व करेगी। भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के सांसद ब्रज भूषण शरण सिंह ने बताया, 'आज यहां 63 किलो वजन वर्ग के लिए कराए गए दोबारा ट्रायल में गीतिका जाखड नहीं पहुंची लिहाजा अलका तोमर को आज के ट्रायल का विजेता मान लिया गया।' सिंह ने कहा, 'इस बारे में फेडरेशन की एक आपात बैठक बुलाई गई जिसमें इस बारे में अंतिम फैसला लिया जाएगा और खेल मंत्रालय को इस बारे में बता दिया जाएगा और इस विवादास्पद मुकाबले सीडी भी सौंपी जाएगी।' उन्होंने कहा, 'अलका और गीतिका के ट्रायल के दौरान मौजूद तकनीकी अधिकारी के खिलाफ उचित कार्रवाई की जा सकती है।' महिला पहलवान गीतिका जाखड़ की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए खेल मंत्रालय ने कल भारतीय कुश्ती महासंघ [डब्ल्यूएफआई] से स्पष्टीकरण मांगा था कि उसने इस महिला पहलवान को दोबारा ट्रायल के लिए क्यों बुलाया है। गीतिका ने अगले महीने हेलसिंकी में होने वाले ओलंपिक क्वालीफायर के लिए हाल में 19 अप्रैल हुए ट्रायल्स में जीत दर्ज की थी। खेल मंत्रालय ने गीतिका की शिकायत के बाद डब्ल्यूएफआई से तत्काल रिपोर्ट मांगी है जिसमें यह स्पष्ट करना है कि उसने इस पहलवान के वर्ग में दोबारा ट्रायल करने का फैसला क्यों किया। गीतिका ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया है कि महासंघ उससे पक्षपात कर रहा है। भारत सरकार के अवर सचिव ए के पात्रो ने डब्ल्यूएफआई के महासचिव राज सिंह को लिखे पत्र में लिखा, 'गीतिका जाखड़ ने बताया है कि कुश्ती महासंघ ने सिर्फ उसके ही वर्ग में दोबारा ट्रायल कराने का फैसला किया है जिसमें उसे 19 अप्रैल को हुए ट्रायल में विजेता घोषित किया था क्योंकि वह हरियाणा की है जबकि जिसे उसने हराया था, वह उत्तर प्रदेश की है।' भारतीय कुश्ती संघ के सूत्रों ने दोबारा ट्रायल कराने का कारण बताते हुए कहा कि अलका तोमर [गीतिका की प्रतिद्वंद्वी] के कोच ने 19 अप्रैल के ट्रायल के परिणाम के संदर्भ में कुछ संदेह उठाए थे इसलिए इस मुकाबले की फुटेज देखने के बाद चयन समिति [जिसमें सरकारी पर्यवेक्षक भी शामिल है] को लगा कि गीतिका ने कुछ गलतियां की जिन पर ध्यान नहीं दिया इसलिए आज दोबारा ट्रायल कराने का आदेश दिया गया था। संघ के अधिकारी ने कहा, 'गीतिका के खिलाफ पक्षपात का कोई सवाल ही नहीं उठता। हम क्वालीफायर के लिए अपनी सर्वश्रेष्ठ पहलवान चाहते हैं।'