19 February 2019



खेलकूद
कश्यप इंडिया ओपन बैडमिंटन सुपर सीरीज के सेमीफाइनल में
28-04-2012

नई दिल्ली। भारत के स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी पी कश्यप ने यहां चीन के तीसरे वरीय चेन जिन के खिलाफ वॉकओवर के साथ इंडिया ओपन बैडमिंटन सुपर सीरीज के सेमीफाइनल में जगह बनाते हुए लंदन ओलंपिक का टिकट भी लगभग पक्का कर लिया, लेकिन भारत के अन्य खिलाड़ियों को शिकस्त का सामना करना पड़ा। चेन कलाई में चोट के कारण कोर्ट पर नहीं उतर सके, जिससे दुनिया के 30वें नंबर के खिलाड़ी कश्यप की ओलंपिक की राह आसान हो गई। अब उनका अगली विश्व रैंकिंग में अजय जयराम को पछाड़कर शीर्ष भारतीय के रूप में ओलंपिक में जगह बनाना तय है। हाल में एशियाई चैंपियनशिप खिताब जीतने वाले चेन ने इससे पहले तीनों मुकाबलों में भारतीय खिलाड़ी को हराया था। कश्यप के अभी 33716 अंक हैं, जबकि अजय 34842 अंक से 27वें स्थान के साथ शीर्ष भारतीय सिंगल्स खिलाड़ी हैं। कश्यप को अंतिम चार में जगह बनाने के कारण इंडिया ओपन से कम से कम 6420 अंक मिलना तय है, जबकि अजय को प्री क्वार्टर फाइनल में हार के लिए सिर्फ 3600 अंक मिलेंगे। कश्यप तीन मई को जारी होने वाली विश्व रैंकिंग में शीर्ष भारतीय होने के साथ ओलंपिक कोटा हासिल कर लेंगे। कश्यप ने सेमीफाइनल में जगह के साथ इंडिया ओपन में भारत की उम्मीदों को भी जीवंत रखा है, जबकि मेजबान देश के अन्य सभी खिलाड़ियों को शिकस्त का सामना करना पड़ा। कश्यप को सेमीफाइनल में कोरिया के वान हो शोन का सामना करना है जिन्होंने डेनमार्क के दूसरे वरीय पीटर होग गेड को 24-22, 21-18 से हराकर बाहर का रास्ता दिखाया। भारत की उभरती हुई खिलाड़ी दुनिया की 28वें नंबर की पीवी सिंधू महिला सिंगल्स, जबकि ज्वाला गट्टा और अश्विनी पोनप्पा की जोड़ी महिला डबल्स में अच्छी शुरुआत को अंजाम तक नहीं पहुंचा पाई। इन दोनों ही मुकाबलों में भारतीय खिलाड़ियों को पहला गेम जीतने के बावजूद हार का सामना करना पड़ा। सिंधू को चीन की चौथी वरीय यानजियाओ जेंग के हाथों 56 मिनट में 21-18, 12-21, 18-21 से हार का मुंह देखना पड़ा, जबकि ज्वाला और अश्विनी को मियूकी माएदा और सातोको स्युतसुना की जापान की जोड़ी ने 62 मिनट में 21-19, 13-21, 14-21 से हराया। पुरुष डबल्स में सनावे थॉमस और रूपेश कुमार की अनुभवी जोड़ी को भी बोडिन इसारा और मनीपोंग जोंगजीत की थाईलैंड की जोड़ी के हाथों 12-21, 12-21 से शिकस्त झेलनी पड़ी। सिंधू ने मैच के बाद कहा कि मैं पहली बार सुपर सीरीज टूर्नामेंट के क्वार्टर फाइनल में खेल रही थी। मैंने अच्छी शुरुआत की, लेकिन इसे बरकरार नहीं रख पाई। मैंने अहम मौकों पर अंक गंवाए। वह काफी अच्छी खिलाड़ी और नेट पर काफी अच्छा खेली।